मौनी अमावस्या पर स्नान के लिए उमड़ी लाखों श्रद्धालुओं की भीड़

0

कुंभ मेले में लाखों श्रद्रालुओं ने मौनी अमावस्य की रात को दूसरे दिन शाही स्नान किया। 15 जनवरी से शुरु हुए कुंभ के महापर्व में अब तक लाखों श्रद्रालुओं ने आस्था की डुबकी लगा चुके है।

मध्य रात्री से ही मौनी अमावस्या के शाही स्नान के लिए श्रद्रालुओं की भीड़ संगम तट पर उमड़ी शुरु हो गई थी। श्रद्रालुओं ने पवित्र त्रिवेणी गंगा यमुना सरस्वती के संगम पर मध्य रात्रि से ही आस्था की डुबकी लगानी शुरु कर दी।

मौनी अमावस्या पर कुंभ स्नान का सबसे खास महत्तव माना जाता है। मौनी अमावस्या पर नक्षत्रों का संयोग और आस्था का खास योग बनता है। मान्यताओं के अनुसार, इस दिन कुंभ के पहले तीर्थकर रिश्भ देव ने अपनी लंबी तपस्या का मौन व्रत तोड़ा था और संगम के पवित्र जल में स्नान किया था।

प्रशासन ने सुरक्षा का भारी इंतजाम किया है

आपको बता दें की कुंभ में कोई अप्रिय घटना न घटे इसके लिए प्रशासन ने सुरक्षा के खासा इंजताम किए है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया की यह सुनिश्चित करने के लिए भीड़ में कोई अराजक तत्तव न आ जाए और मेले में जुटे लाखों की सहायता के लिए कुंभनगर और इसके बाहर प्रर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था की गई है।

जब सूर्य और चंद्रमा कर्क राशि में प्रवेश करते है, उस दिन मौनी अमावस्या मनाई जाती है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन संगम में स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ती होती है। कुंभ मेले में इस बार दुनियाभर से 12 करोड़ लोखों के पहुंचने का अनुमान है।