अब इस बड़ी एयरलाइन में नहीं मिलेगा उड़ान के दौरान नाश्ता-खाना, इस तारीख से लागू होंगे नियम

0

नई दिल्ली: एयरलाइन से यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए काफी खेद की बात है कि काफी समय से घाटे में चल रहीं देश की सबसे बड़ी एयरलाइन कंपनी जेट एयरवेज अपनी घरेलू उड़ानों पर अब यात्रियों को नाश्ता-खाना नहीं देगी. लेकिन यात्रा के दौरान यात्रियों को उड़ान के वक्त मुफ्त पानी, चाय और कॉफी पीने को जरुर मिलेगी. कंपनी यह नए नियम को 28 सितंबर से देश में लागू करने जा रहीं है.

इकोनॉमी क्लास पर करेंगे लागू

कंपनी ने कहा कि 28 सितंबर से लागू इस नियम को केवल इकोनॉमी क्लास से यात्रा करने वाले यात्रियों पर लागू किया जाएगा. ये इकोनॉमी लाइट और इकोनॉमी डील क्लास से सफर करने वालों के लिए होगा. वहीं अगर यात्री चाहे तो वह भुगतान करके खाने-पीने का सामान खरीद सकता है.

टिकट में होता है खाने का पैसा शामिल

नियम लागू होने को थोड़े दिन है, बता दें कि अभी यात्रियों को सफर के दौरान खाना मिलता है और इसका पैसा भी टिकट में शामिल होता है. यह नियम जेट एयरवेज की तमाम छोटी-बड़ी उड़ानों पर लागू होता है. चाहे फिर यात्री बिजनेस क्लास में सफर करे या फिर इकोनॉमी में उसे नाश्ता, दिन का खाना, शाम की चाय और डिनर सब मिलता है. जेट एयरवेज के सूत्रों के मुताबिक, यात्रियों को छोटी उड़ानों पर नाश्ता नहीं दिया जाएगा. अगर उनको नाश्ता या फिर चाय-कॉफ़ी चाहिए तो उसके लिए अलग से चार्ज देना पड़ेगा.

टिकट के दाम को किया जाएगा कम

जेट एयरवेज ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि इस फैसले के लागू होते ही टिकट के दाम काफी सस्ते हो जाएंगे. क्योंकि यात्रियों से किसी भी प्रकार का नाश्ता व खाने के लिए शुल्क नहीं लिया जाएगा.

क्या कारण है जेटएयरवेज का लोस में जाने का

कंपनी के प्रबंधन ने कर्मचारियों से कहा है कि हवाई ईंधन के कीमतों में इजाफा और इंडिगो द्वारा ज्यादा मार्केट शेयर हासिल करने से उसकी दिक्कतें काफी बढ़ गई है. साल 2016 और साल 2017 में जहां कंपनी ने मुनाफा अर्जित किया था, वहीं साल 2018 के वित्त वर्ष में उसे 767 करोड़ रुपये का घाटा झेलना पड़ा. इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में घाटा बढ़कर के एक हजार करोड़ रूपये के पार जा पहुंचा है. फिलहाल, कंपनी ने अपने काफी इंजीनियर्स को निकालने का फरमान तक जारी कर दिया है. इसके बाद से ही केबिन क्रू और ग्राउंड स्टाफ में भी कर्मचारियों की संख्या कमी की जाएगी.