ममता बनर्जी की मुसलमानों की बात पर तिलमिलाए ओवैसी, दीदी को दी ये नसीहत

0
ममता बनर्जीऔर असदुद्दीन ओवैसी
ममता बनर्जीऔर असदुद्दीन ओवैसी

ममता बनर्जी की “अल्पसंख्यक अतिवाद” टिप्पणी के एक दिन बाद एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल में मुसलमानों की दुर्दशा की अनदेखी करने के लिए टीएमसी प्रमुख की खिंचाई की। AIMIM नेता ओवैसी ने ट्विटर पर कहा, “यह कहना धार्मिक चरमपंथ नहीं है कि बंगाल के मुसलमानों में किसी भी अल्पसंख्यक के सबसे खराब मानव विकास के संकेत हैं।”

असदुद्दीन ओवैसी, जो मुसलमानों के हक़ के लिए आवाज उठाने वाले नेता जाने जाते हैं। वह ममता बनर्जी पर बरस पड़े। दरअसल ममता बनर्जी ने ओवैसी को ‘चरमपंथी अल्पसंख्यक’ कह दिया। ममता ने वैसे सीधे-सीधे तो कुछ नहीं कहा लेकिन इशारों में बता दिया कि उनका इशारा किसकी तरफ है. आपको बता दें कि ममता बनर्जी भी मुसलामानों की हितैसी मानी जाती है। उनके द्वारा ओवैसी को ऐसा कहना सबको थोड़ा हैरानी वाला लगा। खुद ओवैसी भी इस बात से खफा हो गए इसके बाद ओवैसी ने बंगाल में मुसलामानों की स्थिति पर ममता बनर्जी को घेरा।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या मामले को हिन्दुओं के पक्ष में सुनाये जाने पर ओवैसी ने इस पर नाराजगी जतायी थी। ओवैसी के अलावा और किसी मुस्लिम नेता ने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर असहमति नहीं जतायी थी। ओवैसी ने एक ट्वीट कर कहा था कि मुझे मेरी मस्जिद वापिस चाहिए। उनके इस ट्वीट का सन्दर्भ बाबरी मस्जिद था। उनके इस ट्वीट पर सब ने बहुत खिंचाईं की थी। ओवैसी के इस बात पर शायद ममता बनर्जी ने उन्हें “चरमपंथी अल्पसंख्यक” कहा, जो ओवैसी को आखर गयी।

यह भी पढ़ें- इसरो: उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण से पहाड़ों में हुआ स्थान परिवर्तन

ममता बनर्जी ने कूचबिहार में टीएमसी कार्यकर्ताओं की रैली के दौरान लोगों को “अल्पसंख्यक अतिवाद” के खिलाफ चेतावनी दी थी। उन्होंने कहा, “मैं देख रही हूं कि अल्पसंख्यकों में कुछ अतिवादी हैं। उनका आधार हैदराबाद में है। उनकी बात नहीं मानें,” ममता की यह बात एआईएमआईएम पार्टी और उसके नेताओं के सन्दर्भ में थी। ओवैसी की एआईएमआईएम पार्टी हैदराबाद में स्थित हैं।

यह भी पढ़ें- ‘बैंडिट क़्वीन’ साधना पटेल की हुई गिरफ्तारी, जानिए क्या है कहानी

यह बात ओवैसी को नागवार गुजरी और उन्होंने अपने ट्वीट में ममता को खूब लताड़ लगायी।ओवैसी ने ममता से इस साल के शुरू में लोकसभा चुनाव के नतीजों की ओर इशारा करते हुए बंगाल में अपने विरोधियों से निपटने की क्षमता पर भी सवाल उठाया जब भाजपा ने अपनी सीटों की संख्या दो से बढ़ाकर अठारह कर दी।