OP Rajbhar: ‘हम कबूल के लिए तैयार, बस वो दस्तखत कर दें’, सपा से तलाक के सवाल पर बोले ओपी राजभर

0
114

OP Rajbhar: ‘हम कबूल के लिए तैयार, बस वो दस्तखत कर दें’, सपा से तलाक के सवाल पर बोले ओपी राजभर

लखनऊ: सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर और सपा मुखिया अखिलेश यादव के बीच राजनीतिक दूरियां लगातार बढ़ती जा रही हैं। वहीं, राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे आने के दूसरे दिन ही ओपी राजभर को वाई श्रेणी की सुरक्षा मिलने के बाद अब राजनीतिक गलियारों में तरह-तरह की चर्चाएं होने लगी हैं। वहीं, खबर ये भी है कि दोनों नेताओं के बीच ‘तलाक’ यानी राजनीतिक गठबधंन अब टूटने की कगार पर पहुंच गया है। बस औपचारिक ऐलान होना बाकी रह गया है। बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव में सुभापसा ने द्रौपदी मुर्मू को वोट किया था।

हम कबूल के लिए तैयार- राजभर
सुभासपा मुखिया ओम प्रकाश राजभर को यूपी सरकार की ओर से वाई श्रेणी की सुरक्षा मिल गई है। इसी को लेकर सपा ने बीजेपी और राजभर को लेकर जमकर निशाना साधा है। उसी को लेकर शुक्रवार को ओपी राजभर लखनऊ में मीडिया से बातचीत कर रहे थे। एक निजी चैनल से बातचीत करते हुए तलाक यानी गठबधंन टूटने के पेपर तैयार करने के एक सवाल के जवाब में ओपी राजभर ने कहा कि हम कबूल के लिए तैयार हैं, बस वो (अखिलेश यादव) दस्तखत कर दें। बता दें कि 2022 विधानसभा चुनाव में सपा और सुभापसा ने मिलकर चुनाव लड़ा था, लेकिन गठबधंन के बावजूद सपा गठबधंन बहुमत के आंकड़े से कोसों दूर रह गया।

सुरक्षा मिलने पर राजभर ने दी सफाई
राजभर ने Y श्रेणी की सुरक्षा मिलने के कारणों के बारे में बताते हुए कहा कि आज दो साल से 9 बार एफआईआर करा चुके हैं। हजरतगंज, सुलतानपुर, आजमगढ़, बनारस, मऊ, बलिया समेत जहां-जहां हमारे साथ खुराफात हुई, वहां-वहां एफआईआर दर्ज कराई है और इसको लेकर दो साल से पीएम, गृहमंत्री, रक्षा मंत्री, मुख्यमंत्री, प्रमुख सचिव गृह सहित सबको चिट्ठी लिख चुके हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि करीब 25-26 दिन पहले मुझे गृह विभाग से जानकारी मिली थी कि जो आपकी जांच सुरक्षा को लेकर चल रही है, वो पूरी हो गई है, जल्द ही सुरक्षा मिल जाएगी। इसी कड़ी में 15 तारीख को सरकार की ओर से आदेश हुआ था।

सपा ने अपने सहयोगी साथी पर बोला हमला
ओपी राजभर को सुरक्षा मिलने पर समाजवादी पार्टी की ओर से उदयवीर सिंह का जवाब आ गया है उन्होंने कहा कि सरकार की अगर उन्होंने मदद की है तो निश्चित तौर पर सरकार भी उनकी मदद करेगी, ये राजनैतिक शिष्टाचार है। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर यही आपस में एक्सचेंज होना था तो हमारी लीडरशिप और हमारी पार्टी पर इतने आरोप-प्रत्यारोप करने की क्या जरूरत थी।
इनपुट- अभय सिंह

अब NBT ऐप पर खबरें पढ़िए, डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

Copy

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News