दुनियाभर में आज क्रिसमस की रौनक, ये है सीक्रेट सैंटा की पूरी कहानी

0

नई दिल्ली: भारत समेत पूरी दुनियाभर में  क्रिसमस की धूम है. क्रिसमस की जश्न आज हर तरफ देखने को मिल रहीं है. हर जगह बच्चों के पसंदीद सैंटा मिल रहें है.

क्रिसमस ईसाई धर्म का सबसे बड़ा त्योहार है

Loading...

बता दें कि क्रिसमस ईसाई धर्म का सबसे बड़ा त्योहार है. हर साल दुनियाभर में 25 दिसंबर के दिन क्रिसमस डे के रूप में मनाया जाता है. प्यार और पवित्रता का संदेश देने वाला ये त्योहार सबसे पहले रोम में 336 ईस्वी में मनाया गया था.

क्रिसमस का नाम ही क्रिस्ट से पड़ा है

आपको बता दें कि क्रिसमस जीसस क्रिस्ट के जन्म की खुशी में मनाया जाता है. जीसस क्रिस्ट को भगवान का बेटा कहा जाता है. क्रिसमस का नाम ही क्रिस्ट से पड़ा है. कहा जाता है कि 336 ई.पूर्व में रोम के पहले ईसाई सम्राट के दौर में 25 दिसंबर के दिन सबसे पहले क्रिसमस मनाया गया. जिसके कुछ सालों बाद पोप जुलियस ने ऑफिशियली जीसस क्राइस्‍ट का जन्म दिन 25 दिसंबर के दिन मनाने का फैसला कर दिया.

ईसाई धर्म के अतिरिक्त अन्य धर्म के लोग भी इस फेस्टिवल को काफी धूमधाम से मनाते है. इस दिन लोग अपने घर को रंग-बिरंगी लाइटों, डेकोरेटिव आइटम्स से सजाते हैं और क्रिश्चियन लोग खास तौर पर क्रिसमस ट्री को सजाते हैं. इस दिन अधिकतर लोग रेड कलर के कपड़े पहनते है.