कोई नहीं रहेगा भूखा, वंचित को मिलेगा अन्न

0

राशन कार्ड होने के बाद भी अनाज नहीं मिलता है। ऐसे लोगों के लिए वंचित को अन्न योजना संचालित की गई है। एडीएम आपूर्ति चंद्रप्रकाश ने बताया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम में ग्रामीण क्षेत्र में 79.56 व नगरीय क्षेत्र में 64.46 प्रतिशत परिवारों के लाभार्थियों को शामिल किया गया है।

इसमें दो श्रेणी में अन्त्योदय व राशन कार्ड धारकों को लाभ देने की योजना है। अन्त्योदय के 50 हजार लाभार्थियों को 35 किलो ग्राम अनाज दिया जाता है। राशन कार्ड धारकों में छह लाख 50 हजार परिवारों को खाद्यान दिया जा रहा है। एडीएम ने बताया कि कोई भी पात्र योजना का लाभ पाने से वंचित न रह जाए। इसके लिए विशेष अभियान चलाया गया है। कहाकि ई-पॉश मशीन से वितरण होने से कालाबाजारी पर अंकुश लगा है। बायोमीट्रिक व्यवस्था से अंगूठे का मिलान करने के बाद ही राशन का वितरण किया जा रहा है। जिनके अंगूठे का मिलान नहीं होता है।

उनको पर्ची निकाल कर आधार कार्ड की फोटो कॉपी लेकर अनाज दिया जा रहा है। साथ ही सत्यापन कर अपात्रों को लाभार्थी सूची से बाहर किया जा रहा है। बताया कि हर गरीबों व पात्रों को राशन देने को लेकर जिले में अभियान चलाया जाएगा। इसके तहत अभी तक छूटे लोगों को चिन्हित किया जाएगा। इसके बाद उन लोगों के दस्तावेज एकत्रित कर ऑनलाइन प्रक्रिया की जाएगी। साथ ही जल्द से जल्द उनका राशन कार्ड जारी कर लाभ दिया जाएगा। डीएसओ ने बताया कि लगातार आपूर्ति कार्यालय की ओर से राशन कार्ड बनाए जाने की प्रक्रिया जारी है।

बावजूद जिले में अनुसूचित जनजाति के लोग अभी भी राशन के लिए दर-दर भटक रहे हैं। इसको लेकर शासन द्वारा प्रशासन को ऐसे लोगों की तलाश किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। जिसको लेकर संबंधित विभाग व अन्य विभागों को भी इस अभियान में प्राथमिकता से वंचित लोगों को सूची में शामिल करने को कहा गया है। बताया कि 31 जनवरी तक ऐसे वंचितों को राशन कार्ड दे दिया जाएगा। साथ ही ऐसे लोगों को राशन का लाभ दिया जाने लगेगा।