नरेश अग्रवाल: रस्सी जल गयी पर बल नहीं गया, माफ़ी पर मीडिया से ही करने लगे सवाल

0

सोमवार को समाजवादी पार्टी का पैडल छोड़कर नरेश अग्रवाल ने बीजेपी का कमल थाम लिया. भाजपा ज्वाइन करने के बाद अपने पहले भाषण में उन्होंने तंज़ कसते हुए कहा था कि डांस करने वालों की वजह से सपा में मेरा राज्यसभा का टिकट काटा गया. उनके इस बयान से पार्टी में कुछ देर के लिए असहज स्थिति हो गई थी. नरेश अग्रवाल के इस बयान के बाद ना सिर्फ विपक्षी पार्टियों ने बल्कि बीजेपी की ही कई बड़ी महिला नेताओं ने अपना विरोध जताया.

दोगुनी मुसीबत

बता दें कि नरेश अग्रवाल के भाजपा ज्वाइन करने पर पहले ही विरोध हो रहा था. फिर उनके इस बयान के बाद मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक चर्चा होती रही. दिग्गज नेताओं और आमजन ने सोशल मीडिया पार्ट अपना विरोध दर्ज किया. इतने हंगामे के बाद अंततः नरेश अग्रवाल ने अपने बयान पर खेद जताया है.

मंगलवार सुबह मीडिया से बात करते हुए नरेश अग्रवाल ने कहा कि अगर मेरी किसी बात से से किसी को ठेस पहुंची है तो मैं खेद व्यक्त करता हूं. इस दौरान जब पत्रकार ने पूछा कि क्या आप बयान पर माफी मांगेंगे तो उन्होंने कहा कि क्या आप ‘खेद’ शब्द का मतलब समझते हैं. इतना ही नही नरेश अग्रवाल ने कहा, ‘मैं भी हिंदू हूं और कोई भी हिंदू राम मंदिर बनने का विरोध नहीं करता है. मैं नई पारी की शुरुआत कर रहा हूं किसी भी तरह के विवाद में नहीं पड़ना चाहता हूँ.’

गौरतलब है कि बीजेपी में शामिल होने के बाद नरेश अग्रवाल ने कहा था कि ‘सपा में फिल्म में काम करने वाली से मेरी हैसियत तय कर दी गई. उनके नाम पर हमारा टिकट काट दिया गया, इसको मैं उचित नहीं समझता.’ दरअसल समाजवादी पार्टी ने इस बार उनकी जगह जय बच्चन को राज्यसभा का टिकट दिया है, इसी बात से नाराज़ होकर उन्होंने सपा छोड़ा है.

इनका रहा पुरज़ोर विरोध

नरेश अग्रवाल के बयान के कुछ देर बाद ही विदेश मंत्री और बीजेपी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज ने कड़ा ऐतराज़ जताया था. सुषमा स्वराज ने ट्वीट करते हुए नरेश अग्रवाल का बीजेपी में स्वागत किया, लेकिन उन्होंने जया बच्चन पर की गई उनकी टिप्पणी को अस्वीकार्य और गलत बताया. सुषमा स्वराज के बाद स्मृति ईरानी और रूपा गांगुली ने भी नरेश अग्रवाल के बयान पर विरोध दर्ज कराया. ईरानी ने कहा कि जब भी महिलाओं के सम्मान को चुनौती दी जाएगी, तब विचारधारा की लड़ाई छोड़ सभी को एकजुट होना चाहिए.

वहीं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी नरेश अग्रवाल के बयान की निंदा की है और बीजेपी से कड़ी कार्रवाई करने की अपील की. मंगलवार सुबह अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, ”श्रीमती जया बच्चन जी पर की गई अभद्र टिप्पणी के लिए हम भाजपा के श्री नरेश अग्रवाल के बयान की कड़ी निंदा करते है. ये फिल्म जगत के साथ ही भारत की हर महिला का भी अपमान है. भाजपा अगर सच में नारी का सम्मान करती है तो तत्काल उनके ख़िलाफ कदम उठाये. महिला आयोग को भी कार्रवाई करनी चाहिए.”

दल-बदलू इतिहास

बता दें कि नरेश अग्रवाल अपने 38 साल के करियर में 4 बार पार्टी बदल चुके हैं. एक बार तो उन्होंने अपनी पार्टी भी बनाई थी. इतना ही नहीं 2014 के चुनाव में उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर भी कई विवादित बयान दिए थे. उन्होंने कहा था एक चाय बेचने वाला कभी भी देश का प्रधानमंत्री नहीं बन सकता है. अग्रवाल ने कहा था एक चाय के दुकान से उठने वाला नज़रिया कभी राष्ट्रीय स्तर का नहीं हो सकता.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten + three =