MVA News: महाराष्ट्र के नासिक से पड़ेगी महाविकास अघाड़ी में फूट? उद्धव ठाकरे गुट और एनसीपी के छगन भुजबल में ठनी

4
MVA News: महाराष्ट्र के नासिक से पड़ेगी महाविकास अघाड़ी में फूट? उद्धव ठाकरे गुट और एनसीपी के छगन भुजबल में ठनी

MVA News: महाराष्ट्र के नासिक से पड़ेगी महाविकास अघाड़ी में फूट? उद्धव ठाकरे गुट और एनसीपी के छगन भुजबल में ठनी

मुंबई: एक तरफ शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) के सांसद संजय राउत कोशिश कर रहे हैं कि महाविकास अघाड़ी आगामी विधानसभा चुनाव मिलकर लड़े। दूसरी तरफ नासिक जिले में ही महाविकास अघाड़ी में बगावत का बिगुल बजता हुआ नजर आ रहा है। दिलचस्प बात यह है कि उद्धव गुट के उत्तर महाराष्ट्र के संपर्क प्रमुख और नासिक जिले में कई बार दौरे कर चुके संजय राउत की ही पार्टी के एक विधायक ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के वरिष्ठ नेता छगन भुजबल के खिलाफ विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी शुरू की है। दरअसल छगन भुजबल और नरेंद्र दराडे के बीच बाजार समिति चुनाव को लेकर जमकर टकराव हुआ था। इस दौरान छगन भुजबल ने दराडे बंधुओं को उनके खिलाफ चुनाव लड़ने की चुनौती दी थी। विधायक नरेंद्र दराडे ने यह चुनौती स्वीकार की है। जिसके बाद माना जा रहा है कि नासिक में एमवीए के बीच दरार पड़ सकती है।

कौन हैं छगन भुजबल?
छगन भुजबल को एनसीपी के एक कद्दावर नेता के रूप में जाना जाता है। वह लगातार चार बार नासिक के येवला निर्वाचन क्षेत्र से विधायक चुने गए हैं। छगन भुजबल राज्य में उप मुख्यमंत्री, गृह मंत्री, लोक निर्माण मंत्री सहित कई महत्वपूर्ण मंत्री पद संभाल चुके हैं। भुजबल को येवला निर्वाचन क्षेत्र में आमूल-चूल परिवर्तन लाने का श्रेय दिया जाता है। वहीं विधायक नरेंद्र दराडे ने विधान परिषद में कड़े मुकाबले में जीत हासिल की। उसके बाद विधायक नरेंद्र दराडे ने अपने भाई किशोर दराडे को भी विधायक बनने में मदद की थी। दराडे, जिनके पास शैक्षणिक संस्थान हैं और जिले में उनकी एक बड़ी मौजूदगी है। शिवसेना में हुए बगावत के बाद भी वह उद्धव ठाकरे के साथ बने रहे।

एमवीए के विधायक ही उसे तोड़ने में जुटे?
बाजार समिति चुनाव के दौरान छगन भुजबल ने दराडे बंधुओं पर जोरदार हमला बोला था। भुजबल ने तब सवाल उठाया था कि विधायक दराडे को फंड कैसे मिल रहा है। जब महाविकास अघाड़ी के नेताओं को विकास निधि नहीं मिल रही है। क्या यह शिवसेना में ही है? भुजबल यहीं नहीं रुके उन्होंने आरोप लगाया कि कि दराडे ने जिला बैंक को डुबा दिया है। इसी दौरान उन्होंने दराडे को अपने खिलाफ चुनाव लड़ने की चुनौती भी दी थी। भुजबल को जवाब देते हुए विधायक दराडे ने कहा कि जिला बैंक इसलिए दिवालिया हो गया क्योंकि उसने आप जैसे बड़े लोगों को कर्ज दिया था। बैंक के करोड़ों रूपये आपकी वजह से डूबे हैं। ऐसे में जहां राज्य में महाविकास अघाड़ी की एकजुटता बनाये रखने के लिए संजय राउत विशेष प्रयास कर रहे हैं। वहीं अब एमवीए के विधायक ही उसे तोड़ने में जुटे हुए नजर आ रहे हैं।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News