MP: पाबंदी लगी प्री-वेडिंग वीडियो और फोटो शूट पर

0
mp
mp

मध्य प्रदेश में अनोखा फरमान सुनाया गया है जिसके अंतर्गत मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में गुजराती, जैन और सिंधी समुदाय के सदस्य शादियों से पहले प्री-वेडिंग वीडियो और फोटो-शूट नहीं करा सकेंगे. इसको लेकर तीनों समुदायों की पंचायतों ने फरमान जारी किया है, साथ ही यह भी खबर है कि जो इसका पालन नहीं करेगा उसका बहिष्कार कर दिया जाएगा।

जैन समुदाय पंचायत ने शादी-समारोहों में डांस सिखाने के पुरुष कोरियोग्राफर्स के शामिल होने पर भी प्रतिबंध लगा दिया है. खुद को भोपाल गुजरात समुदाय का अध्यक्ष बताने वाले संजय पटेल के मुताबिक प्री-वेडिंग वीडियो और फोटो शूट पर प्रतिबंध और शादियों के दौरान ‘लेडीज़ संगीत’ में पुरुष कोरियोग्राफर्स के प्रवेश पर पाबंदी से संबंधित सर्कुलर जारी कर दिया गया है।

जैन समुदाय ने भी ऐसे फरमान का समर्थन किया है. प्रमोद हिमांशु जैन ने कहा, “इस तरह के फैसले की ज़रूरत तब समझी गई, जब समुदाय के एक आध्यात्मिक गुरु ने शादी से पहले होने समारोहों में पुरुष कोरियोग्राफर्स की ओर से डांस मूवमेंट सिखाए जाने का मुद्दा उठाया.”

इससे पहले मई 2018 में उज्जैन में सिंधी पंचायत ने प्री वेडिंग शूट को लेकर इसी तरह का फरमान जारी किया था. लेकिन उज्जैन में समुदाय के अंदर ही कई लोगों ने उस फरमान का विरोध किया. तब समुदाय के ही कुछ ग्रुप्स ने सवाल उठाया था कि एक व्यक्ति या कुछ व्यक्तियों का समूह पूरे समुदाय की नुमाइंदगी नहीं कर सकता।

यह भी पढ़ें : लाठी के सहारे से चलने वाली दिव्यांग लड़की बनी IAS, रह चुकी है सरकारी टीचर

भोपाल में लोग इस फरमान से नाख़ुश है। लेकिन आवाज़ उठाने की हिम्मत नहीं है। लेकिन फरमान को चुनौती देने की हिम्मत नहीं है।