MP: जादुई महुए का पेड़ लोगों का कर रहा है इलाज़, जाने क्या है माज़रा

0
नयागांव में चमत्कारी पेड़
नयागांव में चमत्कारी पेड़

मध्य प्रदेश के होशंगाबाद के नयागांव में इस समय अफवाह एक पेड़ को लेकर फ़ैल रही है। यह पेड़ महुआ का है। कहा जा रहा है कि यह पेड़ चमत्कारी है। अफवाह है कि जो भी बीमार लोग इस पेड़ को छूते हैं वो चंगे हो जाते हैं। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं।

सतपुड़ा टाइगर रिजर्व (एसटीआर) के रेंजर्स में एक किसान रूप सिंह ठाकुर का दावा है कि महुए का यह पेड़ चमत्कारी है। उसके इस बयान से महुआ के पेड़ की चमत्कारी चंगाई की “अफवाह” शुरू हो रही है। यहाँ पर अब एक दिन में 25,000 से 30,000 लोग आ रहें है। पिछले दो महीनों में नयागांव गाँव के पास 10 लाख से अधिक लोगों ने इस पेड़ का दौरा किया है, और यह संख्या दिन ब दिन के साथ बढ़ती जा रही है।

पुलिस और वन अधिकारी यह पता नहीं लगा पा रहें है कि आखिर माजरा क्या है। भीड़ इतनी है कि जांच भी नहीं की जा सकती है दंगे भड़कने के चांस बहुत ज्यादा है क्योकि यह अब आस्था का मामला हो चुका है।

यहाँ पर बीमार और दुर्बल रोगियों को कुर्सियों पर बैठाया जा रहा है। इस गाँव के आसपास एक मेला सा लग चुका है जिसका लाभ यहाँ के व्यापारी बहुत उठा रहें है। यह पर ट्रैक्टर में भरकर लोग दूर दूर से आ रहें हैं।

इसमें कहा गया है कि एक मरीज, जिसने खुद को उपचार के लिए बुधवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी, कुछ घंटों बाद उसकी मृत्यु हो गई।

पुलिस का कहना है कि बूटलेगर नारियल और अगरबत्ती बेच रहे हैं। अब तक, पेड़ की तस्वीरें भी बिक रहीं हैं, साथ ही इस जगह पर आने वाले लोगों के लिए मिनरल वाटर और स्नैक्स भी बेचे जा रहें हैं। यहाँ पर अराजकता का माहौल हो चुका है।

यह भी पढ़ेंGzb: पुलिसवाले ने चोर से ही कर ली चोरी, हुई गिरफ़्तारी

नयागांव के लोग इस उन्माद को भुनाने में लगे हुए हैं, लेकिन इस सब से गायब एक व्यक्ति रूप सिंह है, जो यह दावा करने के बाद गांव से गायब हो गया है कि पेड़ ने उसका इलाज किया है।

अधिकारियों का दृढ़ विश्वास है कि यह चमत्कार की कहानी कुछ ग्रामीणों द्वारा पैसा कमाने के लिए रची गयी है। स्थानीय सूत्रों का कहना है कि नयागांव में इन दिनों पचमढ़ी की तुलना से अधिक लोग आ रहें हैं। जबकि पचमढ़ी यहाँ से 70 किमी दूर स्थित एक हिल स्टेशन है।