MP News: महाराष्ट्र का मैं जमाई हूं… एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने क्यों कहा?

1
MP News: महाराष्ट्र का मैं जमाई हूं… एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने क्यों कहा?

MP News: महाराष्ट्र का मैं जमाई हूं… एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने क्यों कहा?

भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को राजभवन भोपाल में आयोजित ’अखंडता का उत्सव’ सांस्कृतिक समारोह में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने कार्यक्रम को संबोधित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक व्यक्ति नहीं, बल्कि एक संस्था हैं। हम सब भारत मां के लाल हैं, हमारे देश में भेदभाव नहीं होता है। सीएम शिवराज ने कहा कि प्रधानमंत्री ने भी एक भारत श्रेष्ठ भारत के मंत्र को पूरे देश में साकार किया है। भारत अत्यंत प्राचीन और महान राष्ट्र है, हमारा ज्ञात इतिहास 5 हजार साल से ज्यादा का है।
शिवराज ने कहा कि आज जिन्हें विकसित देश कहा जाता है, जब वहां सभ्यता के सूर्य का उदय नहीं हुआ था, तब भारत में वेदों की ऋचाएं रची दी गई थीं। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद संयुक्त राष्ट्र संघ बना लेकिन भारत ने तो हजारों साल पहले कह दिया था। सारी दुनिया को एक परिवार मानने वाला भारत, जियो और जीने दो, सत्यमेव जयते का मंत्र विश्व को भारत ने दिया है। गांव का बच्चा-बच्चा ’धर्म की जय हो अधर्म का नाश हो, प्राणियों में सद्भवना हो, विश्व का कल्याण हो।’ कहता है, यह भारत का विश्व के लिए मंगलगान है।

सीएम ने कहा कि हमारा मध्य प्रदेश भी कम नहीं है। हमारी विकास दर पिछले साल 19.6 प्रतिशत थी, यह देश में नंबर एक पर है। हमारी जीएसडीपी जो कभी 71 हजार करोड़ हुआ करती थी, आज 15 लाख करोड़ पार कर गई है। सीएम ने कहा कि हमने जब सरकार संभाली तब पर कैपिटा इनकम 11000 थी जो कि आज बढ़कर 1 लाख 40 हजार हो गई है। देश की जीएसडीपी में हमारा योगदान जो 3 प्रतिशत हुआ करता था, आज मध्य प्रदेश के योगदान 4.6 प्रतिशत हो गया है।

गुजरात, महाराष्ट्र दिवस की दी बधाई

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज महाराष्ट्र-गुजरात दिवस है। मैं दोनों राज्यों के स्थापना दिवस के अवसर पर मध्य प्रदेश की साढ़े 8 करोड़ जनता की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं। परमपिता परमात्मा से यही प्रार्थना करता हूं कि हमारे दोनों महान राज्य प्रगति करें, विकास करें। देश की प्रगति और विकास में अतुलनीय योगदान दें। मध्यप्रदेश के विकास में गुजरात और महाराष्ट्र के भाई बहनों का अतुलनीय योगदान है। मैं आपके योगदान को प्रणाम करता हूं। मध्य प्रदेश जो आता है, वह मध्य प्रदेश का ही हो जाता है, जैसे दूध में शकर घुलकर एक हो जाती है, वैसे ही मध्यप्रदेश में आकर सब एक हो जाते हैं।

दो महान राष्ट्र हैं गुजरात, महाराष्ट्र

सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि किसी महान देश के दो महान राज्य महाराष्ट्र और गुजरात हैं। देखो मुल्क मराठों का, छत्रपति शिवाजी महाराज उनके शौर्य की गाथाएं, महापुरुषों की ऐसी मालिकाएं जिनका वर्णन करूं, तो घंटों लग जाएं। उन्होंने ललकार कर कहा था कि स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है। इस धरती पर, संत तुकाराम से लेकर संतों की एक परंपरा रही है। गुजरात में सरदार वल्लभभाई पटेल एक इतिहास हैं। अगर पटेल न होते तो भोपाल के नवाब ने आंखें दिखा दी थीं। जूनागढ़ के नवाब, हैदराबाद के निजाम सभी को सरदार पटेल टेढ़ी उंगली करके घी निकाल कर लाए और इन राज्यों को भी भारत में विलीन किया। महात्मा गांधी विश्वबन्ध हैं, अद्भुत बापू। आज भी कीर्तिगाथाएं प्रसांगिक हैं दुनिया को सास्वत शांति का संदेश दे रहे हैं।

मोदी जी ने भी इसी धरती पर जन्म लिया

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इसी गुजरात में नरेंद्र भाई मोदी ने जन्म लिया। उन्होंने देश के मान, सम्मान, प्रतिष्ठा को पूरी दुनिया में बढ़ाने का चमत्कार किया है। नरेंद्र भाई मोदी एक व्यक्ति नहीं एक संस्था हैं कितनी दिशाओं में काम करते हैं। कल आपने मन की बात सुनी होगी जो हर महीने देश के अनसीन हीरो को सामने लाने और उन्हें प्रतिष्ठित करने का काम करते हैं। भूरीबाई जैसी कलाकार को ढूंढ कर लाए उन्हें पद्मश्री से सम्मानित कर दिया।

गुजरात और महाराष्ट्र से मेरा भी रिश्ता है

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस धरती पर महान योद्धा भी पैदा हुए और नरसिंह जैसे महान संत भी पैदा हुए। गुजरात की धरती ने देश की प्रगति में अतुलनीय योगदान दिया है। दोनों राज्यों से मेरे व्यक्तिगत रिश्ते हैं, महाराष्ट्र का मैं जमाई हूं और गुजराती समाज के स्कूल में मैं पढ़ा हूं। दोनों राज्य प्रगति और विकास कर रहे हैं, मुंबई हमारी वाणिज्यिक राजधानी है। उद्योगों का प्रमुख केंद्र है। फिल्म उद्योग के कारण भी महाराष्ट्र की ख्याति है, देश का सबसे बड़ा शेयर बाजार मुंबई बाजार है। एक नहीं ऐसी अनेकों विशेषताएं हैं जो महाराष्ट्र देश की प्रगति में योगदान दे रहा है।

गुजरात मॉडल

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने कई वर्षों तक गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में काम करते हुए प्रगति और विकास की राह दिखाई, जो गुजरात मॉडल के नाम से दुनिया में जानी जाती है। गुजरात सहकारिता का सूत्र है अमूल्य चमत्कार किया है। सहकारिता आंदोलन की सफलता का सबसे अच्छा उदाहरण है। उसी से प्रेरणा लेकर हमने सांची दुग्ध संघ बनाया। दो दशकों में गुजरात ने अनेकों कीर्तिमान स्थापित किए हैं। सबसे तेज विकासशील शहरों में गुजरात का अहमदाबाद अपना नाम दर्ज करा चुका है।
रिपोर्ट: दीपक राय
इसे भी पढ़ें
Maharashtra Day 2023: 1 मई को क्यों मनाते हैं महाराष्ट्र दिवस, जानिए 63 साल पहले कैसे बना था अलग राज्य

उमध्यप्रदेश की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Madhya Pradesh News