हवा में झूलते हैं इस मंदिर के खम्बे

0

भारत मंदिरों का देश है। यहां विभिन्न प्रांतो में हमें मंदिर देखने को मिलते हैं। मंदिरों को देवालय कहा जाता है यानि कि देवताओं का घर। माना जाता है कि लोग मंदिर में अपनी मनोकामना पूर्ण होने के लिए भगवान से पार्थना करते हैं। भारत जैसे विशाल देश में रोज मंदिर बनते हैं, पर यहां कुछ ऐसे मंदिर हैं जो बहुत पुराने मंदिर और अनोखे भी हैं। इनके चमत्कार इतने प्रभावित करते हैं कि वैज्ञानिक भी असंजस में पड़ जाते हैं। आज हम एक ऐसे ही प्राचीन हिन्दू मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके खंभे हवा में झूलते हैं।
आंध्र प्रदेश की अनंतपुर में एक ऐसा ही मंदिर है, जो कि अपने ऐतिहासिक और चमत्कारी महत्व के लिए प्रसिद्ध है। यहां की सबसे खास बात यह है कि इस मंदिर के स्तंभ बिना किसी सहारे के हवा में झूल रहे हैं। इसके अलावा इस मंदिर का संबंध रामायण काल से भी बताया जाता है।

16वीं शताब्दी में हुआ था मंदिर का निर्माण

यह अनूठा मंदिर बैंगलुरु से लगभग 100 किलोमीटर दूर आंध्रप्रदेश के अनंतपुर जिले के लेपाक्षी गांव में है। ऐतिहासिक मत के अनुसार, यह मंदिर16वीं शताब्दी में बनवाया गया था। इस मंदिर को लेपाक्षी मंदिर या वीरभद्र मंदिर भी कहते हैं। इस मंदिर की विशेषता ये है कि इस मंदिर के स्तम्भ बिना किसी सहारे के हवा में लटके हुए हैं। यहां के झूलते खंभों को लेकर यह मान्यता प्रचलित है कि इन खंभों के नीचे से अपनी साड़ी या कपड़े निकालने पर मनुष्य की मनोकामना पूरी हो जाती है।
यह मंदिर अपने झूलते खंभों के रहस्य की वजह से इतना प्रसिद्ध हो गया कि इसका रहस्य जानने के लिए एक ब्रिटिश इंजीनियर तक भारत आया था। इंजीनियर ने बहुत कोशिश की, लेकिन इस चमत्कार का रहस्य जान नहीं पाया और वह भी इस रहस्य को बिना सुलझाए वापिस चला गया।

रामायण काल से जुड़ा है मंदिर

लेपाक्षी गांव के साथ रामायण की एक कथा भी प्रचलित है। कथा के अनुसार, सीता हरण के समय पक्षिराज जटायु ने रावण से युद्ध किया था। उस समय युद्ध में घायल होकर जटायु यहीं गिरे थे। जब भगवान राम सीता जी को खोजते हुए यहां पहुंचे तो उन्होंने जटायु को देख कर कहा उठो पक्षी, जिसे तेलुगु ‘ले पक्षी’ कहा जाता है। तभी से इस जगह का नाम लेपाक्षी पड़ गया। मंदिर परिसर के पास ही एक विशाल पैर की आकृति धरती पर अंकित है, जिसे भगवान राम के पैर का निशान मान कर पूजा जाता है।

मंदिर के प्रवेश द्वार पर नंदी की एक विशाल प्रतिमा बनी हुई है। यह एक ही पत्थर से बनी देश की सबसे विशाल मूर्तियों में से एक मानी जाती है। मंदिर की दीवारों पर कई देवी-देवताओं और महाभारत-रामायण की कहानियां अंकित हैं।

मंदिर तक कैसे पहुँचे

हवाई मार्ग– लेपाक्षी गांव से लगभग 100 कि.मी. की दूरी पर बैंगलुरु एयरपोर्ट है।

रेल मार्ग– लेपाक्षी से सबसे करीब का रेल्वे स्टेशन अनंतपुर है। वहां तक रेल मार्ग से आकर सड़क मार्ग से लेपाक्षी पहुंचा जा सकता है।

सड़क मार्ग–
आंध्रप्रदेश के किसी भी शहर तक किसी अन्य साधन से आकर, वहां से निजी वाहन या बस की सहायता से लेपाक्षी पहुंचा जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × three =