सुप्रीम कोर्ट में निर्भया केस के आरोपी की दया याचिका खारिज

सुप्रीम कोर्ट में निर्भया केस के आरोपी की दया याचिका खारिज

निर्भया गैंगरेप केस में सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी विनय शर्मा की दया याचिका खारिज कर दिया है।आरोपी विनय शर्मा ने खुद को मानसिक तौर पर बीमार बताकर भी फांसी टालने की मांग की थी जिसे लेकर सुप्रीम कोर्ट ने विनय को मेंटली फिट बताया है।

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था,वहीं राष्ट्रपति की ओर से दया याचिका खारिज किए जाने की प्रक्रिया पर भी सवाल उठाते हुए फांसी टालने की मांग करने की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है.

निर्भया कांड के चार दोषियों में से एक विनय शर्मा की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है,जिसमें राष्ट्रपति द्वारा उसकी दया याचिका की अस्वीकृति को चुनौती दी गई थी।

विनय शर्मा का प्रतिनिधित्व करने वाले एडवोकेट ए. पी. सिंह ने अपने मुवक्किल की दया याचिका को खारिज करने के राष्ट्रपति के फैसले पर सवाल उठाए थे। इस पर अदालत और सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने तीखी आलोचना की, जो इस मामले में केंद्र का प्रतिनिधित्व कर रहे थे।

निचली अदालत ने 31 जनवरी को अगले आदेश तक के लिये चारों दोषियों, मुकेश कुमार सिंह, पवन गुप्ता, विनय कुमार शर्मा और अक्षय कुमार को फांसी देने पर रोक लगा दी थी।

यह भी पढ़ें :भोपाल में नाबालिग लड़कियों से बलात्कार के 2 मामले

ये चारों दोषी इस समय तिहाड़ जेल में बंद हैं। निर्भया से 16-17 दिसंबर, 2012 को दक्षिणी दिल्ली में चलती बस में 6 लोगों ने सामूहिक बलात्कार किया और दरिंदगी के बाद उसे सड़क पर फेंक दिया था।