Maharashtra Political Crisis: बस 2-3 दिन ही चलेगी महाराष्‍ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार, केंद्रीय मंत्री दानवे का बड़ा दावा

0
94

Maharashtra Political Crisis: बस 2-3 दिन ही चलेगी महाराष्‍ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार, केंद्रीय मंत्री दानवे का बड़ा दावा

मुंबई: महाराष्‍ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार पर संकट (Maharashtra Political Crisis) बरकरार है। श‍िवसेना अपने बागी व‍िधायकों मनाने में नाकाम हो चुकी है। ऐसे में केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे ने बड़ा बयान द‍िया है। दानवे ने कहा क‍ि महाराष्ट्र में महा विकास आघाड़ी (MVA) की सरकार ‘दो-तीन दिन’ तक ही चलेगी। गठबंधन में शामिल शिवसेना के विधायकों ने विद्रोह किया हुआ है। राज्य सरकार में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) से मंत्री राजेश टोपे की मौजूदगी में एक समारोह के दौरान दानवे ने यह बात कही। उन्‍होंने कहा क‍ि एमवीए को बाकी विकास कार्यों को जल्द से जल्द पूरा करना चाहिए क्योंकि हम (BJP) केवल दो- तीन दिन के लिए ही विपक्ष में हैं। दरअसल एमवीए गठबंधन में शिवसेना के अलावा एनसीपी और कांग्रेस भी शामिल है।

केंद्रीय रेलवे, कोयला और खान राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे ने कहा क‍ि समय निकल रहा रहा है। यह सरकार दो- तीन दिन चलेगी। इस बगावत से भारतीय जनता पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है। शिवसेना के बागियों की मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से नाराजगी है। एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले गुट के बीजेपी में शाम‍िल होने की संभावना के बारे में पूछे जाने पर दानवे ने कहा कि ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है और अगर कोई प्रस्ताव आता है तो वरिष्ठ नेतृत्व फैसला करेगा। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू किए जाने की कोई संभावना नहीं है।

LIVE: महाराष्ट्र के राजनीतिक संकट का हर अपडेट जानने के लिए क्लिक कीजिए

बागी विधायक शिंदे अयोग्यता नोटिस के खिलाफ पहुंचे कोर्ट
उधर, महाराष्ट्र में शिवसेना के बागी मंत्री एकनाथ शिंदे ने अपने और 15 अन्य बागी विधायकों को विधानसभा उपाध्यक्ष की ओर से भेजे गए अयोग्यता नोटिस के खिलाफ रविवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख किया और इस कार्रवाई को ‘गैर-कानूनी और असंवैधानिक’ करार देने और इस पर रोक लगाने का निर्देश देने की अपील की है। जस्‍ट‍िस सूर्यकांत और जस्‍ट‍िस जेबी पारदीवाला की अवकाशकालीन पीठ सोमवार को शिंदे की याचिका पर सुनवाई कर सकती है। शिंदे और शिवसेना के विधायकों का बड़ा हिस्सा 22 जून से असम की राजधानी गुवाहाटी के एक होटल में डेरा डाले हुए है।

बागी व‍िधायकों ने खोला गठबंधन सरकार के खिलाफ मोर्चा
दरअसल बागी विधायकों ने राज्य की महा विकास आघाड़ी (एमवीए) गठबंधन सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है जिससे सरकार गिरने का खतरा उत्पन्न हो गया है। शिंदे के नेतृत्व वाला विद्रोही समूह मांग कर रहा है कि शिवसेना को महा विकास आघाड़ी गठबंधन (एमवीए) से हट जाना चाहिए, लेकिन शिवसेना सुप्रीमो और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने हार मानने से इनकार कर दिया है और पार्टी ने अब असंतुष्टों से कहा है कि वे इस्तीफा दें और फिर से चुनाव लड़ें। एमवीए में कांग्रेस और एनसीपी भी शामिल हैं।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News