LIVE: शिवसेना के 16 विधायकों का क्या होगा? उद्धव और एकनाथ शिंदे आमने-सामने, SC में सुनवाई का हर अपडेट

0
56

LIVE: शिवसेना के 16 विधायकों का क्या होगा? उद्धव और एकनाथ शिंदे आमने-सामने, SC में सुनवाई का हर अपडेट

मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) की सियासत में 11 जुलाई का इंतजार काफी दिनों से सत्ता और विपक्ष के नेता कर रहे थे। आज सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई में एकनाथ शिंदे सरकार (Eknath Shinde Government) का भविष्य तय किया जाएगा। शिवसेना (Shivsena) ने अपने 16 बागी विधायकों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में याचिका दायर की है। आपको बता दें कि शिवसेना के बागी विधायकों ने एकनाथ शिंदे के साथ मिलकर अपना एक अलग गुट बना लिया है। इनमें से 16 बागी विधायकों को तत्कालीन विधानसभा उपाध्यक्ष ने अयोग्य करार दिया था। इसी पर आज सुनवाई होनी है।

दूसरी तरफ एक याचिका और है जो शुक्रवार को दायर की गई थी। जिसमें राज्यपाल (Maharashtra Governor) के 30 जून वाले फैसले को भी चुनौती दी गई है। जिसमें उन्होंने एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए निमंत्रित किया था। सुप्रीम कोर्ट में होने वाली इस सुनवाई पर फिलहाल पूरे देश की निगाहें टिकी हुई है।

मंत्रिमंडल विस्तार भी रुका
महाराष्ट्र में शिंदे सरकार के मंत्रिमंडल का अभी तक का विस्तार नहीं हो पाया है। इसके पीछे सबसे बड़ी वजह 11 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में होने वाली सुनवाई है। ऐसा कहा जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही शिंदे सरकार अपने मंत्रिमंडल के विस्तार पर कोई फैसला लेगी। अगर यह फैसला नई सरकार के पक्ष में आता है तो मंत्रिमंडल विस्तार समेत विधायकों की अयोग्यता पर लटकने वाली तलवार का डर पूरी तरह से खत्म हो जाएगा। वहीं अगर सुप्रीम कोर्ट का फैसला विपरीत आया तो शिंदे सरकार की मुश्किलें बढ़ना बढ़ सकती हैं।

आज सुनवाई की संभावना कम
16 विधायकों की अयोग्यता वाले मामले की सुनवाई आज होने की संभावना काफी कम बताई जा रही है। इसकी वजह यह है कि अभी तक यह मैटर आज की सुनवाई के लिए सूचीबद्ध नहीं है। ऐसे में यह कहा जा रहा है कि इस मामले की सुनवाई मंगलवार या बुधवार को हो सकती है। वहीं शिवसेना की इस याचिका के विरोध में सुप्रीम कोर्ट में बागी गुट की तरफ से भी एक याचिका दायर की गई है। जिसमें नवनियुक्त विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर ने कहा है कि अब महाराष्ट्र विधानसभा के पास पूर्णकालिक अध्यक्ष है। ऐसे में विधायकों को लेकर किए जाने वाले फैसले का अधिकार सदन को है। लिहाजा शिवसेना की याचिका को खारिज किया जाए।

उद्धव ठाकरे का विधायकों भावनात्मक पत्र
सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई से पहले उद्धव ठाकरे ने अपने 15 विधायकों को एक भावुक पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि मुसीबत की घड़ी में भी पार्टी के प्रति निष्ठा और विश्वास दिखाने के लिए धन्यवाद। उद्धव ने पत्र में लिखा है कि किसी भी धमकी और प्रलोभन के चक्कर में न पड़ें और एकनिष्ठ रहें। शिवसेना को ताकत देने के लिए धन्यवाद। मां जगदंबा आपको हमेशा स्वस्थ रखें। यह प्रार्थना करता हूं।

Copy

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News