LIC IPO news: कब आएगा एलआईसी का आईपीओ! वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने खत्म किया सस्पेंस

0
89


LIC IPO news: कब आएगा एलआईसी का आईपीओ! वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने खत्म किया सस्पेंस

हाइलाइट्स

  • LIC के IPO का इंतजार कर रहे निवेशकों के लिए अच्छी खबर
  • इसी वित्त वर्ष में आएगा एलआईसी का बहुप्रतीक्षित आईपीओ
  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दूर किया सस्पेंस
  • विनिवेश लक्ष्य हासिल करने के लिए अहम है यह आईपीओ

नई दिल्ली
देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी एलआईसी (LIC) के मेगा आईपीओ (IPO) का निवेशकों को बेसब्री से इंतजार है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने शुक्रवार को साफ किया कि एलआईसी का आईपीओ इसी वित्त वर्ष में आएगा। यानी यह मार्च से पहले बाजार में दस्तक दे सकता है।

शुक्रवार को इस बारे में हुई एक बैठक में सीतारमण ने भी हिस्सा लिया। मीटिंग के बाद एक अधिकारी ने कहा कि इस बैठक में हमने एलआईसी के प्रस्तावित आईपीओ के टाइमलाइन पर चर्चा की। साथ ही इस मुद्दे पर भी चर्चा हुई कि इसमें क्या-क्या चुनौतियां सामने आ रही हैं। इस बैठक में सीतारमण ने इन मुद्दे पर दीपम के सचिव तुहीन कांत पांडे और एलआईसी मैनेजमेंट के साथ विस्तृत चर्चा की।

मुकेश अंबानी की कंपनी में बंपर कमाई का मौका, इस साल आ सकता है रिलायंस जियो का आईपीओ

विनिवेश लक्ष्य
सरकार ने इस वित्त वर्ष में विनिवेश के जरिए 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है और इसे हासिल करने के लिए एलआईसी का आईपीओ सबसे अहम है। सरकार ने इस वित्त वर्ष के दौरान भारत पेट्रोलियम (Bharat Petroleum) जैसी कई कंपनियों की बिक्री की योजना बनाई थी। लेकिन इस वित्त वर्ष के दौरान इनकी बिक्री की संभावना नहीं है।

एलआईसी का आईपीओ देश का अब तक का सबसे बड़ा इश्यू होगा। सरकार का दावा है कि यह मार्च से पहले आ जाएगा लेकिन बाजार में इस दावे को लेकर शंका है। इसके कई कारण है। सरकार को इससे जुड़े कई पहलुओं पर स्थिति साफ करनी है। इसमें सरप्लस या प्रॉफिट का हिस्सा भी शामिल है जिसे शेयरहोल्डर्स को ट्रांसफर किया जाना है।

Mutual Fund: सोमवार को आ रहा है दो एनएफओ, मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर में निवेश का मौका

क्या है पेच
दूसरी बीमा कंपनियां अपने सरप्लस का 10 फीसदी हिस्सा शेयरहोल्डर्स फंड में देती हैं जबकि एलआईसी के मामले में यह केवल 5 फीसदी है। बाकी हिस्सा पॉलिसीहोल्डर्स के लिए रखा जाता है। साथ ही सरकार को एफडीआई (FDI) नियमों में भी बदलाव करना होगा। अभी इसमें विदेशी निवेशकों को हिस्सा लेने की अनुमति नहीं है।

कारोबार जगत के 20 से अधिक सेक्टर से जुड़े बेहतरीन आर्टिकल और उद्योग से जुड़ी गहन जानकारी के लिए आप इकनॉमिक टाइम्स की स्टोरीज पढ़ सकते हैं। इकनॉमिक टाइम्स की ज्ञानवर्धक जानकारी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।



Source link