मीडिया पर बरसें लालू

0
मीडिया पर बरसें लालू
मीडिया पर बरसें लालू

बिहार की सियासत किस मोड़ पर आ पहुँची है, इस बात से शायद ही कोई अंजान होगा। बीते दिनों से बिहार की सियासत में नये-नये आयाम देखने को मिल रहे हैं। बिहार की सियासत तो इस मोड़ पर आ चुकी है कि जहाँ सभी को यही लगता है कि जल्द ही महागठबंधन टूटकर बिखर जाएगी। इसी सिलसिले में लालू प्रसाद यादव ने प्रेस कॉन्फेंस किया। कॉन्फ्रेंस में लालू ने ये साफ कहा कि महागठबंधन में दरार का तो कोई सवाल ही पैदा नहीं होता है।

महागठबंधन में दरार के चर्चाओं के बीच लालू ने प्रेस कॉन्फ्रेस करके कहा कि नीतीश कुमार ने कभी भ्रष्टाचार के मसलें पर तेजस्वी यादव का इस्तीफा नहीं मांगा। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मीडिया को इस मसले में ज्यादा दिलचस्पी है। मीडिया मामलें को बढ़ा रही है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि नीतीश कुमार हमारे नेता हैं। मीडिया पर बरसते हुए लालू ने कहा कि महागठबंधन में दरार की बातें तो मीडिया द्वारा ही फैलाई गई हैं।

आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों से जीरो टॉलरेंस के मुद्दे पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार लगातार तनाव झेल रहे हैं। प्रेस कॉन्फ्रेस में पूछे गये सवाल का जवाब देते हुए लालू ने कहा कि हमने महागठबंधन बनाया और नीतीश को बतौर मुख्यमंत्री स्वीकार किया। लालू अपनी बात पर अड़े हुए कहते हैं कि नीतीश मुख्यमंत्री है और हमें इससे कोई दिक्कत नहीं थी और न ही होगी। लेकिन अगर नीतीश अपनी जिम्मेदारी को आगे नहीं बढ़ाना चाहते हैं, तो यह उनका निजी मामला है। इसके साथ ही लालू ने यह भी कहा कि  नीतीश क्या सोचते हैं, ये हमें मालूम नहीं।

कॉन्फेंस के दौरान लालू ने मीडिया को भी आड़े हाथ लिया और कहा कि नीतीश तेजस्वी से इस्तीफा नहीं मांग रहा है, बल्कि मीडिया ही इस्तीफा की मांग कर रही है। साथ ही मीडिया पर नाराज होते हुए उन्होंने यह भी कहा कि नीतीश और उनके बीच कोई मनमुटाव नहीं है, हम अक्सर मिलते रहते है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने भी कहा कि नीतीश कुमार ने उनसे कभी इस्तीफा नहीं मांगा। साथ ही तेजस्वी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी के लोग चरित्र हनन करके बेकार के मामलों में फंसा रहे हैं। और एजेंसियों का भी गलत इस्तेमाल किया जा रहा है। तेजस्वी यही नही रूके उन्होंने कहा कि बिहार की जनता को सारी बातें पता है और बीजेपी सिर्फ महागठबंधन को तोड़ना चाहती है। लेकिन हम एक है और भी मजबूत है।

भले ही लालू और तेजस्वी महागठबंधन का बचाव करते आ रहे है, लेकिन सच्चाई तो इससे अलग है। आपको बता दें कि बिहार में विधानमंडल सत्र से पहले महागठबंधन के सहयोगी दल जेडीयू और आरजेडी ने अलग-अलग बैठक की। ऐसा पहली बार हुआ है कि जब दोनों दलों ने अलग-अलग बैठक की। इस बात से यह और भी स्प्षट हो जाता है कि महागठबंधन टूट की ओर बढ़ चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fifteen + fourteen =