Kumar Kartikeya: 15 साल की उम्र में छोड़ा घर, क्रिकेट के लिए की मजदूरी, अब नौ साल बाद परिवार से मिला मुंबई इंडियंस का खिलाड़ी

0
198


Kumar Kartikeya: 15 साल की उम्र में छोड़ा घर, क्रिकेट के लिए की मजदूरी, अब नौ साल बाद परिवार से मिला मुंबई इंडियंस का खिलाड़ी

कहावत है कि मेहनत और लगन के आगे किसी भी मुश्किल चुनौती को बौना किया जा सकता है। इसे चरितार्थ किया है 24 साल के क्रिकेटर कुमार ने, जो सोशल मीडिया पर अपनी एक तस्वीर के कारण चर्चा में हैं। कार्तिकेय पहली बार तब सुर्खियों में आए थे जब उन्हें इंडियन प्रीमियर लीग 2022 में मुंबई इंडियंस ने मोहम्मद अरशद खान की जगह अपनी टीम में शामिल किया था। आईपीएल के 15 वें सीजन के लिए जब ऑक्शन हुआ तो कार्तिकेय को कोई खरीददार नहीं मिला था लेकिन किस्मत ने पलटी मारी और 20 लाख के बेस प्राइज में नीलामी के बाद उन्हें इस लीग में खेलने का मौका मिल गया जो कि उनके लिए एक सपना था।

Copy

कार्तिकेय ने आईपीएल में तो खेल लिया लेकिन यहां तक पहुंचने की उनकी कहानी काफी संघर्षपूर्ण रही है। क्रिकेट के प्रति कार्तिक का जुनून इस कदर उन पर हावी था कि उन्होंने महज 15 साल की उम्र में घर छोड़ दिया और ठान लिया कि जब तक उन्हें आईपीएल में खेलने का मौका नहीं मिलता है वह अपने घर वापस नहीं जाएंगे। कार्तिकेय ने ठीक ऐसा ही किया। वह पूरे 9 साल 3 महीने के बाद अब अपने माता पिता नहीं मिले। कार्तिकेय ने अपनी भावुक मुलाकात की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की है। उन्होंने फोटो शेयर करते हुए कहा, ‘9 साल 3 महीने बाद अपने परिवार और मां से मिला। अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में असमर्थ हूं।’

कुमार कार्तिकेय अपने माता पिता के साथ

navbharat times -CWG T20 News: महिला क्रिकेट में भारत ने बारबाडोस को 100 रनों से पछाड़ा, कॉमनवेल्‍थ खेलों में उम्‍मीदें बरकरार
क्रिकेट के लिए छोड़ दिया घर

क्रिकेट के लिए कार्तिकेय ने महज 15 साल की उम्र में अपने होमटाउन कानपुर को छोड़ दिया। कानपुर से वह दिल्ली आ गए। दिल्ली में राधेश्याम नाम दोस्त उनका सहारा बना। राधेश्याम यहां लीग क्रिकेट खेलते थे। इसके बाद दोनों ने साथ में क्रिकेट एकेडमी में जाने का फैसला किया लेकिन पैसों की तंगी के कारण उन्हें कोई भी क्रिकेट एकेडमी नहीं मिला। वहीं कार्तिकेय ने अपने मां बाप से वादा किया था कि वह क्रिकेट के लिए उन पर कभी भी आर्थिक बोझ नहीं डालेंगे।

पैसों की तंगी तो थी ही, इस बीच वह और उनका दोस्त राधेश्याम गौतम गंभीर के बचपन के कोच संजय भारद्वाज के पास गए। राधेश्याम ने भारद्वाज से कहा की कार्तिकेय के पास देने के लिए पैसे नहीं है, इसके बावजूद उन्होंने मदद की। कार्तिकेय का ट्रायल लिया गया और उनका चयन हो हया।

रणजी ट्रॉफी मैच के दौरान कार्तिकेय

रणजी ट्रॉफी मैच के दौरान कार्तिकेय

navbharat times -Lovlina Borgohain: पहले निजी कोच की जिद, फिर ओपनिंग सेरेमनी में बवाल… अब खाली हाथ लौटने को मजबूर बॉक्सर लवलीना
पैसों के लिए की मजदूरी

कार्तिकेय के पास पैसों की इतनी कमी थी कि उन्हें गाजियाबाद में मजदूरी करनी पड़ी। कार्तिकेय क्रिकेट एकेडमी से लगभग 80 किलोमीटर दूर मजदूरी करने जाते थे। इस दौरान वह कई कई किलोमीटर पैदल भी चलते थे ताकि बिस्कुट खाने के लिए वह 10 रुपए बचा सके। इस बीच फैक्ट्री के पास ही उन्हें रहने की एक जगह मिल गई थी। वह रात में फैक्ट्री में काम करते थे जबकि दिन में क्रिकेट खेलते थे।

DDCA में नहीं हुआ चयन

कार्तिकेय लगातार स्कूली स्तर शानदार प्रदर्शन कर रहे थे। उन्होंने डीडीसीए लीग में 45 विकेट लिए। इसके अलावा दिल्ली के ओम नाथ सूद प्रतियोगिता में में प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट भी चुने गए थे। हालांकि इस बेहतरीन प्रदर्शन के बावजूद उनका डीडीसीए ने टॉप-200 में चयन नहीं किया। इस कारण वह बहुत हताश हो गए लेकिन संजय भारद्वाज ने फिर उनकी मदद की।

मुंबई के लिए विकेट लेने के बाद कार्तिकेय

मुंबई के लिए विकेट लेने के बाद कार्तिकेय

navbharat times -India Team For Asia Cup: केएल राहुल और CSK के इस धाकड़ खिलाड़ी की होगी वापसी, जानें किसकी हो सकती छुट्टी
भारद्वाज ने कार्तिकेय को मध्य प्रदेश जाने की सलाह दी। यहां कार्तिकेय ने सभी ट्रायल मैच में पांच-पांच विकेट निकाले। उन्हें इस प्रदर्शन के कारण जल्द ही उन्हें रणजी ट्रॉफी में खेलने का मौका मिल गया। इसके बाद उन्हें मध्य प्रदेश के लिए अंडर-23 में भी डेब्यू का मौका मिला।

आईपीएल में संजू सैमसन के विकेट से मिली प्रसिद्धि

आईपीएल 2022 शुरू हो चुका था। इसी बीच मुंबई इंडियंस के लिए चुने गए अरशद खान चोटिल होकर पूरे सीजन से बाहर हो गए। उनकी जगह कार्तिकेय को मुंबई ने अपनी टीम शामिल किया। कार्तिकेय ने आईपीएल के अपने पहले ही ओवर में राजस्थान रॉयल्स के कप्तान संजू सैमसन को आउट कर वह चर्चा में आ गए थे। इस तरह मुंबई की तरफ से उन्हें चार मैच में खेलने का मौका मिला जिसमें कुल पांच विकेट लिए।



Source link