Kota News: कोटा पुलिस और नर्सिंग कर्मियों के बीच टकराव, सीआई को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड करने की मांग

0
64

Kota News: कोटा पुलिस और नर्सिंग कर्मियों के बीच टकराव, सीआई को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड करने की मांग

कोटा: राजस्थान के कोटा में पुलिस (kota police) और चिकित्सा कर्मियों के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है। कोटा के नर्सिंग कर्मियों (nursing staff) का शहर पुलिस के रेलवे कॉलोनी थाना प्रभारी मुनेंद्र सिंह पर नर्सिंग ऑफिसर के साथ बदसलूकी करने और बंद कमरे में मारपीट करने का गंभीर आरोप लगाया है। और इस मामले की निष्पक्ष जांच और थाना प्रभारी मुनेंद्र सिंह को निलंबित करने की मांग की जा रही है। इन्हीं मांगों को लेकर शुक्रवार को कोटा महाराव भीमसिंह चिकित्सालय के नर्सिंग कर्मियों ने जमकर बवाल काटा। प्रदर्शन करते हुए नर्सिंग कर्मियों ने कोटा रेलवे कॉलोनी थाने के सीआई को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड की मांग का ज्ञापन कोटा जिला कलेक्टर के नाम सौंपा।

प्रदर्शनकारी नर्सिंग कर्मियों ने बताया कि एमबीएस अस्पताल में नर्सिंग ऑफिसर बलराज मीणा महात्मा गांधी कॉलोनी में रहता है। उसके घर में चोरी हुई थी। मामले में रेलवे कॉलोनी पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया। मामला कोर्ट में विचाराधीन है। न्यायालय में गवाही के लिए उसके घर समन पहुंचा तो बलराज रेलवे कॉलोनी थाना उपस्थित हुआ।
Alwar Mob Lynching: बीजेपी ने गठित की जांच कमेटी, आज अलवर पहुंचेंगे राजेंद्र राठौड़, अरुण चतुर्वेदी और मदन दिलावर
सीआई पर भी मारपीट, बदसलूकी का आरोप

16 अगस्त को जहां उसके कागज पर साइन पुलिस की ओर से करवाए गए। जब उसने जमानती के साइन कराने के लिए कहा तो वहां मौजूद पुलिस कांस्टेबल ने बलराज के साथ गाली गलौज कर दी। ऐसे में विवाद हो गया। इसकी शिकायत करने पीड़ित बलराज थाना प्रभारी सीआई मुनेंद्र सिंह के पार पहुंचा, तो मुनेंद्र पर भी आरोप है कि उसने पीड़ित बलराज के साथ बुरी तरह से मार पिटाई की। बदसलूकी की। गाली गलौज की। पीड़ित बलराज इस पूरे मामले में इंसाफ चाहता है। उसके साथ इतनी मारपीट की कि उसे अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा।
navbharat times -Kota News : जालौर के इंद्र कुमार को इंसाफ दिलाने के लिए दो घंटे किया बाजार बंद
सीसीटीवी कैमरे के फुटेज के आधार पर हो जांच, तभी होगा साफ

नर्सिंग कर्मियों ने जिला प्रशासन से मांग की है कि पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच हो। थाने में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज के आधार पर यह जांच हो, ताकि दूध का दूध पानी का पानी हो। दोषी पुलिसकर्मी कांस्टेबल और थाना प्रभारी सीआई के खिलाफ कानूनी कार्रवाई हो। नर्सिंग कर्मियों ने कहा कि अगर पूरे मामले में निष्पक्ष कार्रवाई नहीं हुई। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई, तो नर्सिंग कर्मी अपने कामकाज का बहिष्कार करेंगे। जिसकी जिम्मेदारी प्रशासन की होगी। (रिपोर्ट-अर्जुन अरविंद)

Copy

जोधपुर में पुलिस ने पकड़ी अवैध हथियारों की बड़ी खेप, 15 पिस्टल और कारतूस के साथ 4 आरोपी अरेस्ट

राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News