Karnataka-Maharashtra Border Row: कर्नाटक की बस और CM बोम्मई की तस्वीर पर छिड़का काला पेंट, दूसरे दिन भी नहीं चलीं बसें

0
167

Karnataka-Maharashtra Border Row: कर्नाटक की बस और CM बोम्मई की तस्वीर पर छिड़का काला पेंट, दूसरे दिन भी नहीं चलीं बसें

मुंबई: कर्नाटक-महाराष्ट्र सीमा विवाद (Karnataka-Maharashtra Border Row) थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसका असर अब नवी मुंबई पर भी पड़ने लगा है। कर्नाटक से नवी मुंबई आने वाली बसें कलंबोली हाईवे पर देरी से चल रही हैं। वहीं बुधवार को महराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) कार्यकर्ता ने विरोध प्रदर्शन क‍िया। मनसे कार्यकर्ताओं ने कर्नाटक के रजिस्ट्रर वाहनों के नंबर प्लेट पर ब्लैक पेंट से एस्प्रे कर विरोध जताया। उधर, दोनों राज्‍यों की सीमावर्ती जिलों में अशांति के मद्देनजर दूसरे दिन भी महाराष्ट्र से कर्नाटक के लिए हजारों राज्य परिवहन और प्राइवेट बसें और माल ट्रक सेवाएं निलंबित रहीं। इससे दोनों राज्यों के बीच यात्रा करने वाले हजारों यात्री बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। इसके अलावा कमर्शियल सामान, खाद्य पदार्थ आदि सहित सभी प्रकार की सामग्रियों के ट्रांसपोर्ट और सप्‍लाई को महाराष्ट्र से कर्नाटक और कर्नाटक से महाराष्ट्र तक रोक दिया गया है।

महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम (MSRTC) के एक प्रवक्ता ने बताया कि मंगलवार से यहां से कर्नाटक के लिए करीब 750 एसटी बस सेवाएं अगले आदेश तक निलंबित कर दी गई हैं। बॉम्बे गुड ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन कमेटी के सदस्य दीपक वर्मा ने कहा कि लगभग 2,500 ट्रक महाराष्ट्र से कर्नाटक में खराब होने वाले खाद्य पदार्थों सहित सभी प्रकार की सामग्रियों को ले जाते हैं, जो रास्ते में अलग-अलग बिंदुओं पर फंसे हुए हैं।

राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश पर भी असर
वर्मा ने कहा कि इनमें राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश जैसे अन्य राज्यों के माल ट्रक शामिल हैं जो महाराष्ट्र सीमा मार्गों के माध्यम से कर्नाटक में सामान लाते हैं। इसके अलावा लगभग 1,000 प्राइवेट बसें, मिनी वैन, टेम्पो या अन्य छोटे ट्रांसपोर्ट वाहन हैं जो पिछले 24 घंटों में सीमा के दोनों ओर फंसे हुए हैं, हालांकि कर्नाटक से महाराष्ट्र जाने वाले वाहनों की संख्या उपलब्ध नहीं है।

कावेरी विवाद के चलते कर्नाटक-तमिलनाडु सीमा पर यात्रियों को करना पड़ रहा है परेशानियों का सामना


क्‍या है पूरा मामला

दरअसल कर्नाटक रक्षण वेदिके के कुछ कथित कार्यकर्ताओं की ओर से बेलगावी (बेलगाम) सीमा से राज्य में प्रवेश करने वाली कई बसों और ट्रकों पर हमला करने के बाद मंगलवार को स्थिति अचानक से भड़क गई। इसने महाराष्ट्र में कर्नाटक के वाहनों के खिलाफ प्रतिशोध की चिंगारी भड़काई और एक बड़े पैमाने पर राजनीतिक हंगामे का रूप ले लिया। मामला अब केंद्र के पाले में है।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News