Karnataka Hijab Controversy: कर्नाटक हिजाब विवाद पर पाकिस्तान ने भारतीय राजदूत को किया तलब, मिला करारा जवाब

330


Karnataka Hijab Controversy: कर्नाटक हिजाब विवाद पर पाकिस्तान ने भारतीय राजदूत को किया तलब, मिला करारा जवाब

इस्लामाबाद:कर्नाटक हिजाब विवाद (Karnataka Hijab Row) पर पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय (Pakistan on Karnataka Hijab Row) ने इस्लामाबाद में भारतीय राजदूत को तलब किया। पाकिस्तानी मंत्रालय ने कर्नाटक के हिजाब विवाद (Karnataka Hijab News) पर भारतीय राजनयिक के सामने गंभीर चिंता दर्ज करवाई। पाकिस्तान ने कर्नाटक में मुस्लिम छात्राओं के हिजाब पहनने से रोकने (Karnataka Hijab Controversy) का दावा करते हुए निंदा की। इस पर भारत के वरिष्ठ राजनयिक इस्लामाबाद में इंडियन चार्ज डी अफेयर्स सुरेश कुमार ने पाकिस्तान के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए करारा जवाब दिया है। इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी, सूचना मंत्री फवाद चौधरी और विपक्षी नेता मरियम नवाज ने भारत पर निशाना साधते हुए हिजाब विवाद को भड़काने की कोशिश की थी।

भारतीय राजनयिक ने पाकिस्तान को दिया मुंहतोड़ जवाब
इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय राजनयिक सुरेश कुमार ने पाकिस्तान के सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि भारत एक धर्म निरपेक्ष देश है। भारत में हर काम एक निश्चित प्रक्रिया के अनुसार होता है। उन्होंने इस्लामाबाद को नसीहत देते हुए कहा कि पाकिस्तान को पहले खुद का ट्रैक रिकॉर्ड देखना चाहिए। दरअसल, पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों के ऊपर जबरदस्त जुल्म ढाहा जा रहा है। कई अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं की रिपोर्ट में भी पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों के ऊपर हो रहे अत्याचारों का जिक्र किया गया है। आए दिन पाकिस्तान में हिंदू मंदिरों पर हमले, देवी-देवताओं की मूर्तियों में तोड़फोड़ की घटनाएं होती रहती हैं। बड़ी संख्या में हिंदू और ईसाई लड़कियों का अपहरण कर जबरन धर्म परिवर्तन भी करवाया जाता है।

Karnataka Hijab Row Pakistan: हिजाब के मुद्दे को उकसाने में लगे पाकिस्तानी नेता, मरियम नवाज ने बदली प्रोफाइल पिक्चर
पाकिस्तान ने हिजाब विवाद पर जारी किया बयान
पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा, ”भारत के चार्ज डी अफेयर्स से आग्रह किया गया है कि वे भारत सरकार को कर्नाटक में आरएसएस-बीजेपी गठबंधन द्वारा चलाए जा रहे हिजाब विरोधी अभियान पर पाकिस्तान की अत्यधिक चिंता से अवगत कराएं। पाकिस्तान ने आरोप लगाया कि यह मुस्लिम महिलाओं को बदनाम करने के लिए किया जा रहा है। पाकिस्तान ने भारतीय राजनयिक के सामने यह भी दावा किया कि फरवरी 2020 में हुए दिल्ली दंगों में 50 मुसलमान मारे गए थे, इसके लगभग दो साल बाद भी मुसलमानों के खिलाफ धार्मिक असहिष्णुता, नकारात्मक रूढ़िवादिता और भेदभाव बेरोकटोक जारी है।”

खुद का गिरेबान न देख भारत को दी नसीहत
बयान में कहा गया है कि भारत सरकार को भारत में मुस्लिम महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए। पाकिस्तान ने खुद की गिरेबान को झांकने के बजाए जबरदस्ती की नसीहत देते हुए कहा कि भारत सरकार को कर्नाटक में महिलाओं के उत्पीड़न के अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने, मुस्लिम महिलाओं की सुरक्षा और कल्याण सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त उपाय करने के लिए अपनी जिम्मेदारी निभानी चाहिए।

navbharat times -Hijab Row Pakistan: हिजाब विवाद में कूदा पाकिस्‍तान, इमरान खान के मंत्री के जहरीले बोल, ‘मोदी राज में हालात भयावह’
पाक विदेश मंत्री ने उगला जहर
पाकिस्तान विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने ट्वीट करके कहा कि मुस्लिम लड़कियों को शिक्षा से वंचित रखना उनके मानवाधिकारों का उल्लंघन है। ऐसे किसी भी मूलभूत अधिकार से किसी को विमुख करना और उन्हें हिजाब पहनने को लेकर सताना दमनकारी है। दुनिया को निश्चित रूप से समझना होगा कि यह भारत सरकार के मुसलमानों के दमन के प्लान का हिस्‍सा है।’ इससे पहले इमरान खान सरकार के सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने पीएम मोदी और भारत को लेकर जहरीले बयान दिए थे।

navbharat times -Pakistan On Hijab Row: हिजाब विवाद में कूद रहा पाकिस्तान, भारतीय राजनयिक को तलब कर जताई ‘चिंता’
‘अल्‍लाह हू अकबर’ बोले पाक सूचना मंत्री
पाकिस्तानी सूचना और प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी ने ट्वीट करके कहा, ‘मोदी के भारत में जो कुछ चल रहा है, वह डरावना है। भारतीय समाज अस्थिर नेतृत्‍व में सुपर स्‍पीड से पतन की ओर जा रहा है। हिजाब पहनना अन्‍य ड्रेस की तरह से एक निजी पसंद का मामला है। नागरिकों को मुक्‍त होकर अपने फैसले लेने का अधिकार दिया जाना चाहिए। अल्‍लाह हू अकबर।’



Source link