जेएनयू एक बार फिर बवाल के घेरे में ।

जानियें ऐसा क्या हुआ जेएनयू में जो विद्यार्थियों ने किया विरोध ?

0
JNU in headlines
जेएनयू में एक बार फिर बवाल ।

देश के विख्यात विश्वविद्यालयों में से एक जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय सदा ही विवादों के लिए चर्चा में रहा है। 14 अप्रैल को डॉ भीमराव अम्बेडकर जयंती के सुबह अवसर पर विश्‍वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में एक बार फिर विद्यार्थियों ने विवाद को जन्म दिया । यह विवाद विश्‍वविद्यालय के पुस्तकालय के नाम बदलने को लेकर रहा । विश्‍वविद्यालय शासन प्रणाली ने पुस्तकालय का नाम डॉ. बी आर अंबेडकर सेंट्रल लाइब्रेरी रखने का फैसला लिया । जिसके लिए करीब एक साल पहले मंजूरी मिली थी. जेएनयू छात्र संघ (जेएनयूएसयू) ने घोषणा की थी कि वह छात्रों के विभिन्न मुद्दों को लेकर इस समारोह का बहिष्कार करेगा जिसे पहले मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर द्वारा वीडियो-कांफ्रेंसिंग से संबोधित किये जाने की संभावना थी।

Loading...

जेएनयूएसयू अध्यक्ष मोहित पांडेय ने कहा था, ‘‘हम मंत्री की वीडियो-कांफ्रेंस का बहिष्कार करेंगे. हमारे कई सवालों के जवाब मिलने चाहिए. हम इस एकतरफा संवाद से हैरान हैं जिसमें वह केवल छात्रों को संबोधित करना चाहते हैं और हमारे मुद्दों को नहीं सुनना चाहते.’’ हालांकि अन्य व्यस्तताओं के चलते मंत्री का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया और अब समारोह का उद्घाटन। कुलपति एम जगदीश कुमार करेंगे.

कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई ने भी इस मौके पर शोध छात्रों का विषय उठाने के लिए प्रदर्शन की योजना बनाई है जिन्हें चार महीने से अधिक समय से मानदेय नहीं दिया जा रहा. जेएनयू शिक्षक संघ ने भी सीटें कम करने के मामले में समाधान निकालने की मांग करते हुए विरोध प्रदर्शन की घोषणा की है.

जेएनयू ने पिछले साल जून में आरएसएस से जुड़े छात्र संगठन एबीवीपी की मांग पर केंद्रीय पुस्तकालय का नाम बदलने की स्वीकृति दी थी ।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

19 + five =