Jaipur News: सचिन पायलट के अल्टीमेटम के बाद राजस्थान की सियासत में आया भूचाल, मंत्री-विधायक और बीजेपी नेताओं का एक साथ पलटवार

17
Jaipur News: सचिन पायलट के अल्टीमेटम के बाद राजस्थान की सियासत में आया भूचाल, मंत्री-विधायक और बीजेपी नेताओं का एक साथ पलटवार

Jaipur News: सचिन पायलट के अल्टीमेटम के बाद राजस्थान की सियासत में आया भूचाल, मंत्री-विधायक और बीजेपी नेताओं का एक साथ पलटवार

जयपुर: कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने सोमवार को आयोजित आमसभा में अपनी ही पार्टी की सरकार को अल्टीमेटम दे दिया। सरकार के समक्ष तीन मांगें रखते हुए सचिन पायलट ने कहा कि अगर 15 दिन में उनकी मांगे पूरी नहीं हुई तो वे पूरे राजस्थान में उग्र आन्दोलन करेंगे। सचिन पायलट के इस ऐलान के बाद विपक्ष के कई सदस्यों ने बयान जारी किए। विपक्ष के साथ सत्ता पक्ष के विधायकों और मंत्रियों ने सचिन पायलट के आरोपों पर पलटवार किया।

​संजीवनी घोटाले पर क्यों नहीं बोले पायलट – चेतन डूडी

पूर्व में सचिन पायलट के समर्थक रहे कांग्रेस विधायक चेतन डूडी ने सचिन पायलट पर गंभीर आरोप लगाए हैं। डूडी ने पायलट पर निशाना साधते हुए कहा कि राजस्थान में सबसे बड़ा संजीवनी घोटाला है, इसमें लाखों लोगों के घर लुट गए। सोमवार को हुई सचिन पायलट की आमसभा पायलट ने संजीवनी घोटाले के प्रमुख आरोपी का नाम भी नहीं लिया। रैली के बाद इस घोटाले के मुख्य आरोपी ने पायलट साहब की तारीफ में ट्वीट भी किया है। पायलट ने जुलाई 2020 की घटना को याद करते हुए तंज भी कसा। उन्होंने कहा कि शेखावत और पायलट की दोस्ती तो मानेसर के समय से ही है। सचिन पायलट की ओर से पेपर लीक मामले में मुआवजा देने की बात कहने पर डूडी ने कहा कि ऐसा मुआवजा किसी राज्य में नहीं मिला। ऐसे बयान सिर्फ झूठी वाहवाही लेने का प्रयास हैं।

​मंत्री ही सरकार पर लगा रहे भ्रष्टाचार के आरोप, यह गंभीर मामला- राजेन्द्र राठौड़

​मंत्री ही सरकार पर लगा रहे भ्रष्टाचार के आरोप, यह गंभीर मामला- राजेन्द्र राठौड़

सचिन पायलट की आमसभा के दौरान मंत्री राजेन्द्र गुढ़ा और हेमाराम चौधरी ने सरकार पर भ्रष्टाचार के कई आरोप लगाए। इसके बाद नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि भ्रष्टाचार को लेकर कांग्रेस के जनघोषणा पत्र में किये गये, ‘Zero Discretion, Zero Corruption & Zero Tolerance’ के वादे की हकीकत उनके मंत्री स्वयं बता रहे हैं। कांग्रेस सरकार में ही मंत्री राजेन्द्र गुढ़ा जी ने सार्वजनिक मंच से अपनी ही सरकार पर भ्रष्टाचार को लेकर जो आरोप लगाये हैं वो अत्यन्त गंभीर हैं। इसकी निष्पक्ष और उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए। राठौड़ ने कहा कि संविधान के आर्टिकल 164 (2) के अनुसार मंत्रिमंडल सामूहिक उत्तरदायित्व के आधार पर काम करता है और एक मंत्री का बयान पूरे मंत्रिमंडल यानी सरकार का माना जाता है। मंत्री जी के बयान से एक बार फिर से सिद्ध हो गया है कि कांग्रेस और भ्रष्टाचार एक दूसरे के पूरक हैं। राठौड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री जी विपक्ष पर नहीं तो कम से कम अपने मंत्रिमंडल के साथियों की बात पर तो भरोसा करो। सरकार के मंत्री खुद कह रहे हैं कि यहां बिना रिश्वत के कोई फाइल आगे नहीं जाती।

​जिम्मेदार लोगों का सरकार पर आरोप लगाना खेदजनक – महेश जोशी​

​जिम्मेदार लोगों का सरकार पर आरोप लगाना खेदजनक - महेश जोशी​

जलदाय मंत्री डॉ. महेश जोशी का कहना है कि यह अत्यंत आश्चर्यजनक और खेदजनक है कि कुछ जिम्मेदार लोग अपनी ही सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगा रहे हैं। अपनी ही सरकार पर आरोप लगाने से पहले उन्हें ये सोचना था कि वे ये आरोप खुद पर भी लगा रहे हैं। आरोप लगाने वालों को ये अच्छे से ये पता है कि जब कभी भी भ्रष्टाचार की बात सामने आई हैं तो मुख्यमंत्री जी ने भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाते हुए सशक्त चोट की है। भ्रष्टाचारियों के खिलाफ ACB की कार्रवाइयां इस बात की द्योतक हैं कि भ्रष्टाचारी चाहे कितना भी बड़ा शख्स हो ACB की ओर से बेहिचक बड़ी सख्ती से कार्रवाइयों को अंजाम दिया गया।

​मुख्यमंत्री को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देना चाहिए – सीपी जोशी​

​मुख्यमंत्री को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देना चाहिए - सीपी जोशी​

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी ने कहा है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए। सचिन पायलट की आमसभा के बाद सीपी जोशी ने ट्वीट किया कि ‘मुख्यमंत्री जी, आपकी सरकार के मंत्री आपकी ही सरकार पर भारत की सबसे भ्रष्टाचार और कमीशन खोर सरकार होने का आरोप लगा रहे हैं। क्या ऐसी स्थिति में आपको अपने पद पर बने रहना चाहिए…? अगर थोड़ी भी नैतिकता बची हो तो तुरंत इस्तीफा देना चाहिए।’

​सरकार की अलाइमेंट को शुरू से ही बिगड़ी हुई है – गजेन्द्र सिंह शेखावत

​सरकार की अलाइमेंट को शुरू से ही बिगड़ी हुई है - गजेन्द्र सिंह शेखावत

पायलट की जनसभा के बाद केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने भी बयान जारी किया है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं का एक बड़ा समूह ‘जिसकी मेहनत से सरकार आई थी’, आज खुद ही अपनी सरकार को भ्रष्ट बता रहा है। जिन्होंने धक्का मारकर कांग्रेस की गाड़ी स्टार्ट किया था, गहलोत जी ने उन्हीं को गाड़ी से उतार दिया और “गाड़ी तो मैं ही चलाऊंगा” की जिद पकड़े बैठे हैं। शेखावत ने कहा कि सरकार की अलाइनमेंट तो शुरू से ही बिगड़ी हुई है और अब सवारियों की देखभाल करने वाला भी कोई नही। जिन्हें उतार दिया गया, उनका गुस्सा और दर्द समझा जा सकता है।​ (रिपोर्ट – रामस्वरूप लामरोड़)

राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News