जेडीयू एक बार फिर बीजेपी पर भारी, इन 3 राज्यों में खेला नया दांव

0

बिहार: आगामी चुनाव को लेकर जहां एक तरफ बिहार में सीट बंटवारे को लेकर दलों में गर्मा-गर्मी बनी हुई है. वहीं अब जेडीयू ने बिहार के अलावा भाजपा शासित राज्य में भी निशान साधा दिया है. जेडीयू शायद आने वाले चुनाव को लेकर इतनी ज्यादा सक्रिय होगी है कि उन्होंने आने वाले विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी से अलग चुनाव लड़ने का फैसला लिया है. अब जेडीयू चार राज्यों में अलग चुनाव लड़ते दिखेगी. बता दें कि इन चार राज्यों में छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश भाजपा शासित राज्य है.

भाजपा को परेशान करने के लिए अपने उम्मीदवारों को इन राज्यों में उतारने पर जोर  

बताया जा रहा है जिन राज्यों में जेडीयू चुनाव लड़ने की तैयारियां कर रहा है उन राज्यों में उसकी उपस्थिति मामूली है, एसे मे अपने उम्मीदवारों को इन राज्यों से उतारने से उनकी मंशा भाजपा को परेशान करने से है. पर आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर जेडीयू पहले ही बीजेपी से सीटों की मांग कर रही है. जानकारी के अनुसार, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 11 जुलाई को पटना के दौरे पर जाएंगे. इस दौरान उनकी मुलाकात नीतिश कुमार के साथ होने की भी संभावना है. इस दौरान शाह दोनों पार्टियों के बीच बिगड़ती बात बनाने पर जोर देंगे.

यह भी पढ़ें: तेज प्रताप का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला, कहा घर के बाहर नो एंट्री बोर्ड लगाऊंगा

जेडीयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी का बयान

कुछ समय पहले जेडीयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा था कि जनता दल को बिहार के अलावा दूसरे राज्य जैसे झारखंड, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में भी सम्मानित सीटों मिलनी चाहिए. वहीं इस दौरान उन्होंने इशारों में साफ कर दिया कि अब समय आ गया है कि भाजपा नीतीश कुमार की अधिकतम सेवाएं ले, लेकिन हमें अन्य राज्यों में सम्मानित सीट भी प्राप्त करें. दरअसल, जेडीयू जहां एक तरफ इन राज्यों में चुनाव लड़ने का विचार कर चुकी है वहीं मिजोरम राज्य में भी अपना परचम लहराने की पूरी कोशिशों में जुटी हुई है. जेडीयू खुद को राम मनोहर लोहिया के राजनीतिक उत्तराधिकारी के रूप में देखती है क्योंकि वह पर मनोहर जैसे समाजवादी पार्टी नेता की मजबूत उपस्थिति थी.

केसी त्यागी ने कहा कि नीतीश कुमार ने उन जगहों पर फिर से वापिस जाने का विचार किया है जो एक टाइम समाजवादी पार्टी के नेताओं का गढ़ था. ऐसा इसलिए क्योंकि नीतीश मुलायम सिंह यादव और लालू प्रसाद यादव के समाजवादी एजेंडे से विचलित है.

यह भी पढ़ें: बिहार में नितीश कुमार और अमित शाह की सीक्रेट मीटिंग, सीटों की शेयरिंग पर हो सकता है बड़ा फैसला

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × one =