कुलगाम एनकाउंटर मे शहीद अमन ठाकुर को गीली आंखों से आज दी जाएगी अंतिम विदाई

0

पुलिस में शामिल होकर देश की सेवा करने के लिए दो-दो सरकारी नौकरियों का त्याग करने वाले डीसीपी अमन ठाकुर कुलगाम एनकाउंटर में शहीद हो गए। आज डीसीपी अमन ठाकुर को देश ग़मी आंसूओं से अंतिम विदाई देगा। शहीद हुए अमन ठाकुर को जम्मू-कश्मीर के सर्वोच्च वीरता पदक शेर-ए-कश्मीर से सम्मानित किया जा चुका है। कुलगाम में एनकाउंटर में दो आतंकवादियों को मौत के घाट दिया। इस एनकाउंटर में डीसीपी अमन ठाकुर के अलावा, सेना के एक हवलदार भी शहीद हो गए।

घर में पसरा पड़ा है मातम

जम्मू के डोडा ज़िले के रहने वाले शहीद अमन ठाकुर के घर में मातम पसरा पड़ा है। वह अपने पीछे माता-पिता, पत्नी, छोटे बेटे और भाई को अकेला छोड़कर शहादत के ताबुत में हमेशा के लिए सो गए हैं। वह पिछले 7 साल से डोडा ज़िले में एक किराए के मक़ान में रहते थे।

2011 बैच के IPS अधिकारी थे अमन ।

कुलगाम एनकाउंटर में आतंकवादियों से लोहा लेते शहीद हुए डीसीपी अमन ठाकुर ने देश की हिफ़ाज़त के लिए सर्वोच्च बलिदान दे दिया। वह 2011 बैच के IPS अधिकारी थे और वह पिछले दो साल से (CTW) काउंटर टेररिज़्म का नेतृत्व कर रहे थे।