उत्तराखंड में हिमालयी क्षेत्र में आए बर्फीले तूफान, शून्य से नीचे पहुंचा पारा

0

वैसे तो उत्तराखंड़ में मौसम हमेशा ही ठंडा बना रहता है, लेकिन इस बार सर्दी में उत्तराखंड में हिमालयी इलाकों में शीतलहर का प्रकोप थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. पारा लगातार निचे गिरता जा रहा है और बर्फीली हवाएं चल रही है. दूसरी ओर शनिवार यानी आज राजधानी देहरादून समेत आसपास के इलाकों में धूप खिली रही.

सुबह के समय यहां पर काफी ठंड होती है, देहरादून सहित ऋषिकेश, हरिद्वार, ऊधमसिंह नगर, हल्द्वानी में सुबह से कोहरा छाया हुआ है, जिसकी वजह से लोग काफी परेशानी का समना कर रहें है. वहीं चमोली जिले के गोपेश्वर में शनिवार की सुबह तापमान चार डिग्री पहुंच गया. जोशीमठ में दो डिग्री रहा, बदरीनाथ धाम में तापमान माइनस छह डिग्री, हेमकुंड में माइनस 13 डिग्री, सतोपंथ में माइनस 14 डिग्री, घाट विकास खंड के रामणी गांव में माइनस एक डिग्री, पोखरी के मोहनखाल क्षेत्र में एक डिग्री, लोहाजंग में एक डिग्री और पाणा-ईराणी माइनस दो डिग्री तापमान रहा.

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि रुद्रप्रयाग जिले में मौसम सुहावना रहने वाला है. जनपद में केदारनाथ के अलावा अन्य जगहों पर तापमान सामान्य हो गया है. रुद्रपुर तराई में लोगों को कोहरे का सामना करना पड़ रहा है. रुद्रपुर में घने कोहरे से सड़कों पर वाहन रेंगते नजर आए है. कुछ दिनों पहले लोगों को ठंड से हल्की राहत मिली थी, लेकिन फिर से घने कोहरे ने सफेद चादर ओढ़ लिया.

हिमालयी क्षेत्र में शुक्रवार तड़के से दोपहर तक बर्फीला तूफान आया है. जिसको देखते हुए प्रशासन ने सरकारी मशीनरी को अलर्ट कर दिया है. फिलहाल बर्फीले तूफान और रात को पड़ रहे पाले ठंड में काफी इजाफा हो गया है. मुनस्यारी का न्यूनतम तापमान माइनस 6 डिग्री पहुंच गया, जबकि पिथौरागढ़ का न्यूनतम तापमान माइनस 2 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। तापमान में गिरावट से मुनस्यारी में ओस की बूंदें बर्फ में तब्दील हो जा रहीं हैं.

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में चारधाम सहित ऊंची चोटियों ने ओढ़ी बर्फ की चादर, ये है आलम

इस बर्फीले तूफान को देखते हुए उपजिलाधिकारी भगत सिंह फोनियां ने सुबह 6 बजे राजस्व पुलिस कर्मियों की आपात बैठक बुलाकर सभी को अलर्ट पर रहने के निर्देश दिया है. अन्य विभागों को भी सतर्क किया गया. एसडीएम ने कहा है कि उच्च हिमालयी इलाकों में आईटीबीपी की अग्रिम चौकियों में जवान तैनात हैं. अभी तक में ऐसी कोई खबर नहीं आई है कि तूफान से किसी प्रकार के नुकसान की है या फिर नहीं.