बिजली विभाग के इंजीनियर ने ऑफिस बोर्ड पर लिखा- मैं भ्रष्‍टाचारी नहीं हूं

0
Telangana
बिजली विभाग के इंजीनियर ने ऑफिस बोर्ड पर लिखा- मैं भ्रष्‍टाचारी नहीं हूं

तेलंगाना के करीमगंज में इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड में एडिशनल डिवीजनल इंजीनियर पौदेती अशोक ने ऑफिस में एक बोर्ड लगाया है. जिसमें यह लिखा है कि वह भ्रष्टाचारी नहीं हैं. पिछले दिनों से रंगारेड्डी जिले के अब्दुल्लापुरमेट गांव में एक महिला तहसीलदार को जिंदा जला दिया गया था. जिसके बाद से तेलंगाना में सरकारी अधिरकारियों में काफी डर देखने को मिला है.

तेलंगाना के रंगारेड्डी जिले के अब्दुल्लापुरमेट गांव में एक महिला तहसीलदार विजया रेड्डी को दफ्तर के अंदर जिंदा जला दिया था. 15 दिन पहले हुए इस मामले ने तुल पकड़ ली है. इसी के साथ इस घटना में महिला अधिकारी की मौके पर ही मौत हो गई है, वहीं उन्हें बचाने के चक्कर में दो अन्य कर्मचारी भी इस आग की चपेट में आ गये है. गनिमत रही की दोनो ही कर्मचारी गंभीर रूप से घायल हो गये थे.

फिलहाल उनका इलाज जारी है. जिसने इस घटना को अंजाम दिया था वह हमलावर भी 50-60 फीसद झुलस गया था. और अब तीनों का ही इलाज चल रहा है. बतातें चले कि तेलंगाना में कथित विसंगतियों के कारण लोगों के बीच बढ़ती नाराजगी के वजह से यह घटना सामने आई थी.

राज्‍य में चल रहे डिजिटलीकरण अभियान के दौरान भूमि रिकॉर्ड में गड़बड़ी हुई है. बताया जाता है कि हमलावर कोर्ट के आदेश के बावजूद भूमि दस्तावेजों में त्रुटियों को ठीक नहीं करने के चलते अधिकारियों से नाराज था. इब्राहिमपटनम के संभागीय राजस्व अधिकारी अमरेंदर कुमार ने बताया कि एक स्थानीय युवक सुरेश मुदिराजू ने इस घटना को सोमवार दोपहर बाद 1.30 बजे अंजाम दिया.

इस घटना के होते समय महिला अधिकारी अपने चैंबर में अकेली थी, जिसके बाद हमलावर ने इस दौरान उनके ऊपर पेट्रोल डालकर आग लगा दी. रचाकोंडा के पुलिस कमिश्नर महेश एम भागवत ने मीडिया को बताया कि हमलावर ने इस घटना को क्यों अंजाम दिया, इस बात का पता जांच के बाद ही चल सकेगा.

यह भी पढ़ें : कांग्रेस विधायक ने असेंबली स्पीकर को दिया फ्लाइंग किस, फिर दी सफाई

फिलहाल इस मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाया गया है. क्योंकि यह मामला हत्या और हत्या करने के प्रयास से जुड़ा हुआ है. इसी बीच अधिकारियों में भी काफी खौफ देखने को मिला है, और वे सभी अपनी छवि को जनता के सामने पेश करने के लिए अपने-अपने अलग तरीके अपना रहे है. जिसका जिता जात उदाहरण तेलंगाना से देखने को मिला हैं.