बुंदेलखंड की ऐसी 5 जगहें जहाँ जाकर पर्यटक जान सकते हैं भारतीय इतिहास

0

जब भी हम बुंदेलखंड की बात करते हैं तो हमारे मन में एक ही चीज़ आती है वह है रानी लक्ष्मी बाई का नाम। क्योकि सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता में हमने पढ़ा है कि ‘बुंदेलों हरबेलो के मुख हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह झांसी वाली रानी थी’ ; बुंदेलखंड अपनी भौगोलिक पहचान के साथ-साथ देश में सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक होने के लिए प्रसिद्ध है। बुंदेलखंड क्षेत्र उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश राज्यों के बीच विभाजित है, हालांकि, इस क्षेत्र का एक बड़ा हिस्सा मध्य प्रदेश में स्थित है। बुंदेलखंड इतिहास की दृष्टि से भी काफी समृद्ध है। आइये हम जानते हैं किया बुंदेलखंड में ऐसी कौन सी चीज़े है जो पर्यटकों को आकर्षित करती हैं।

1 – झाँसी का किला

यह बुंदेलखंड के सबसे खूबसूरत पर्यटक स्थलों में से एक है। वास्तव में यह पूरे उत्तर प्रदेश में सबसे सुंदर स्थानों में से एक है। झाँसी का यह किला ऐतिहासिक प्रासंगिकता रखता है। पूरे विश्व में इतिहास-प्रेमी झांसी को एक ऐसे स्थान के रूप में जाना जा सकता है, जहाँ अंग्रेजों के अत्याचारों के खिलाफ भारी संघर्ष किया गया था। यह नाम रानी लक्ष्मी बाई के साथ अपने इतिहास को जोड़े हुए है, जिन्होंने बिना किसी डर के ब्रिटिश सैनिकों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। यह स्थान विशेष रूप से ब्रिटिश शासन के समय में देशभक्तों के लिए एक गढ़ था।

2- बुंदेलखंड का मशहूर संग्रहालय

जहां इतिहास का देश में सबसे महत्वपूर्ण स्थान रखता हैं, वहाँ एक संग्रहालय होना लाज़मी है। बुंदेलखंड एक ऐसी जगह है जहाँ अंग्रेजों के शासन के दौरान विशेष रूप से अपार संघर्ष हुआ था। इस जगह को दुनिया भर में स्वतंत्रता और स्वतंत्रता के लिए भारत की सफलता के सबसे महत्वपूर्ण कारक या बीज के रूप में पहचाना जाता है। यह संग्रहालय में ब्रिटिश समय के औजारों और रानी लक्ष्मी बाई के स्मृति में रखे गए सामानो को संजोये हुए है।

3- महालक्ष्मी मंदिर

बुंदेलखंड के लोगों द्वारा यह मंदिर पूजनीय है, इसका एक प्रमुख महत्व इसके धार्मिक कारण भी है। इसके ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व के कारण दूर-दूर से पर्यटक यहां आते हैं। बुंदेलखंड में सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थल महालक्ष्मी मंदिर है। भारत भर के भक्त अपनी इच्छाओं को पूरा करने की उम्मीद में इस स्थान पर जाते हैं।

4- महाराजा गंगाधर राव की छतरी

महाराजा गंगाधर राव की छतरी को पूरे उत्तर प्रदेश में सबसे महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों में से एक माना जाता है। यह बुंदेलखंड के मध्य में स्थित है और यह सांस्कृतिक और ऐतिहासिक प्रासंगिकता के कारण महत्वपूर्ण है। महाराजा गंगाधर राव की छतरी एक सुंदर वास्तुकला का प्रतिनिधित्व करती है, जो आपके जीवनकाल में कम से कम एक बार घूमने लायक है। ज्ञात हो कि गंगाधर राव ब्रिटिश काल में झाँसी के राजा थे।

5- रानी महल

बुंदेलखंड में वैसे तो घूमने के लिए कई अन्य स्थान हैं, लेकिन अगर आपने रानी महल को नहीं देखा तो आपने बुन्देलखंड के इतिहास को नहीं देखा। यह महल रानी लक्ष्मी बाई का घर है।