फोड़े-फुंसी से लेकर इन बीमारियों को दूर करता है सैंड बाथ

0

नई दिल्ली: आपने स्टीम बाथ और सन बाथ के बारे में जरुर सुना होगा और आप इनके फायदे से रूबरू भी होंगे. लेकिन आपको शायद ही सैंड बाथ के बारे में ज्यादा जानकारी हो. अगर नहीं तो चिंता की कोई बात नहीं है. आज हम आपको इस आर्टिकल द्वारा सैंड बाथ के कुछ फायदों से अवगत कराएंगे.

कैसे काम करता है सैंड बाथ:- 

रेत के ढ़ेर में खुद को आधे से एक घंटे के ल‍िए दबकर बैठे रहे. इससे न केवल आपको आराम मिलेगा बल्कि काफी  असरदायक तरीके से आपके टॉक्सिन को आपके शरीर से बाहर निकलेगा.  रेत काफी क्षारीय गुणों से भरपूर होता है, ये शरीर में मौजूद क्षारीय को खींच खनिज की प्रक्रिया द्वारा शरीर में खनिजों की पूर्ति करता है.

ऐसे लें सैंड बाथ:- 

शुद्ध-साफ मिट्टी  को सबसे पहले कपड़े से साफ करें और उसके बाद अंग-प्रत्यंग को रगड़िए. जब पूरा शरीर मिट्टी से रगड़ा जा चुका हो, तब 15-20 मिनट तक धूप में बैठ जाएं. उसके  बाद ठंडे पानी से या फिर नपकीन से घर्षण करते हुए स्नान कर लीजिए.

चर्म रोग से आपके बचाए:- 

जिन लोगों को चर्म रोग की परेशानी है जैसे खाज, खुजली, सूजन, दाद, सफेद दाग, उपदंश के घाव इत्यादि, इन पर गर्म ट्टी यानी रेत की पट्टी लगाने से राहत  प्राप्त होती है. जिनको फोड़े-फुंसी होने पर उनमें से मवाद निकलती है, उनके लिए सैंड बाथ काफी लाभकारी होता है.

कब्ज:- 

काफी लोगों को कब्ज की परेशानी होती है. तो इन लोगों को पेट में गर्म मिट्टी की पट्टी लगाने से लाभ मिलेगा. इससे कब्‍ज की समस्‍या दूर हो जाती है.

ब्लड सर्कुलेशन में करे बढोत्तरी:- 

यूं तो हम जानते है सैंड यानी रेत गर्म होती है. इसकी गर्मी से शरीर का तामपान एकदम से बढ़ जाता है. जिससे हार्टबीट बढ़ने के साथ ही ब्‍लड सर्कुलशन भी बढ़ जाता है. जिसके कारण शरीर से सभी अपशिष्ट का निर्वहन होता है और शरीर में पर्याप्त ऑक्सीजन स्तर भी मैंटेन रहता है.