हेड कॉन्स्टेबल बने CAA के विरोध का शिकार, गंवानी पड़ी जान

PROTEST
PROTEST

देश में नागरिकता संसोधन लागू होने से पहले ही इसका विरोध बड़े स्तर पर हो रहा था , इस कानून के खिलाफ धरना प्रदर्शन , नारेबाजी अभी तक जोरों पर है। हालत यहाँ तक पहुंच गया है की पहले यह प्रदर्शन शाहीन बाघ और जामिया यूनिवर्सिटी तक समिति था। परन्तु अब यह प्रदर्शन दिल्ली के अलग -अलग हिस्सों तक पहुंच चुका है। इस प्रदर्शन की इतनी आग देहक चुकी है की आम जनता भी धीरे -2 इसके लपटे में आती जा रही है।

CAA के सन्दर्भ में एक और खबर सामने आयी है कि दिल्ली के गोकुलपुरी थाना क्षेत्र के मौजपुर इलाके में चल रहे का के विरोध प्रदर्शन के बीच पत्थरबाजी में घायल हुए एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई। उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद और मौजपुर इलाकों में प्रदर्शनकारियों ने कम से कम दो घरों में आग लगा दी, जिससे तनाव और बढ़ गया है. इन इलाकों में सोमवार को लगातार दूसरे दिन CAA समर्थक और विरोधी समूहों के बीच झड़पें हुईं. प्रदर्शनकारियों ने एक-दूसरे पर पथराव किया। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े, पुलिस ने समूहों को शांत कराने के भी प्रयास किए।

यह भी पढ़ें :SC को शाहीन बाग के सन्दर्भ में वार्ताकारों ने सौंपी रिपोर्ट

हालत इतने ज्यादा गंभीर हो चुके है की दिल्ली मेट्रो ने इलाके में तनाव के बीच जाफराबाद और मौजपुर-बाबरपुर स्टेशनों पर प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए. डीएमआरसी ने ट्वीट किया, ‘‘जाफराबाद तथा मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्टेशनों के प्रवेश एवं निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं. इन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी.’’ गौरतलब है कि जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार पिछले 24 घंटों से बंद हैं।