दिल्ली के मरीजों में आधे वायरल तो आधे कोरोना के केस, लेकिन धीरे-धीरे बढ़ रहा है आंकड़ा

0
122
दिल्ली के मरीजों में आधे वायरल तो आधे कोरोना के केस, लेकिन धीरे-धीरे बढ़ रहा है आंकड़ा

दिल्ली के मरीजों में आधे वायरल तो आधे कोरोना के केस, लेकिन धीरे-धीरे बढ़ रहा है आंकड़ा

विशेष संवाददाता, नई दिल्ली: एडल्ट्स में सर्दी, खांसी, फीवर, बदन दर्द, सिर दर्द कोरोना की पहचान है तो वहीं बच्चों में लूज मोशन, उल्टी और फीवर कोरोना के प्रमुख लक्षण हैं। डॉक्टरों का कहना है कि इस समय आधे वायरल के मरीज हैं तो आधे कोरोना के मरीज हैं। साथ ही 90 प्रतिशत मरीज ऑनलाइन ही इलाज की सलाह ले रहे हैं। लक्षण के आधार पर डॉक्टर उन्हें इलाज बता रहे हैं और अधिकतर लोग न तो कोविड की जांच करा रहे हैं और न ही अस्पताल जा रहे हैं। यही नहीं, जिन्हें डर होता है वे कोविड का सेल्फ टेस्ट करा रहे हैं। एक्सपर्ट्स का कहना है कि संक्रमण के मामले जरूर सामने आ रहे हैं, लेकिन अधिकतर मरीज कुछ दिनों में ठीक हो जा रहे हैं।

आधे वायरल तो आधे कोरोना के मामले

मैक्स हॉस्पिटल के इंटरनल मेडिसिन के डॉक्टर रोमेल टिक्कू ने कहा कि इलाज के लिए आ रहे मरीजों में आधे वायरल तो आधे कोरोना के मामले हैं। लेकिन 90 प्रतिशत लोग फोन कॉल पर ही सलाह ले रहे हैं। वो इलाज और जांच के लिए अस्पताल नहीं आना चाहते, क्योंकि उनमें हल्के लक्षण ही सामने आ रहे हैं। संक्रमण सामान्य वायरल की तरह दिख रहा है। वायरल फीवर का संक्रमण हो या कोरोना का, सीवियरटी नहीं है। एडमिट होने की जरूरत भी बहुत कम मरीजों को पड़ रही है। लंग्स पर असर नहीं है। ऑक्सिजन की जरूरत नहीं हो रही है। अधिकतर मरीज 2 से 5 दिनों में ठीक हो जा रहे हैं।

अभी चिंता वाली बात नहीं, लेकिन लापरवाही घातक

navbharat times -

एम्स के कोविड एक्सपर्ट डॉक्टर नीरज निश्चल ने कहा कि नंबर के आधार पर अब कोई आकलन संभव नहीं है। वायरस आ चुका है और अब यह यहीं है। जिस तरह अभी कोविड का असर दिख रहा है, वह सामान्य है। मरीजों के लिए अभी चिंता वाली बात नहीं है। लेकिन इस पर लापरवाही भी नहीं होनी चाहिए। अगर अस्पतालों में मरीजों की संख्या बढ़े, सीवियरिटी ज्यादा होने लगे, ऑक्सिजन की जरूरत बढ़ जाए, इस पर ध्यान रखना होगा। साथ में सर्विलांस बहुत जरूरी है, ताकि कोई खतरनाक वैरिएंट न आ जाए और इसकी वजह से स्थिति खराब न हो जाए।

अभी ये हैं कोविड के लक्षण

navbharat times -

एलएनजेपी के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर सुरेश कुमार ने कहा कि बड़ों में अधिकतर में गला खराब, बॉडी पेन, ड्राइ कफ, आंख और सिर में दर्द हो तो यह कोविड के लक्षण हैं। वहीं अगर बच्चों में लूज मोशन और उल्टी हो साथ में फीवर हो तो यह कोविड भी हो सकता है। उन्होंने कहा कि अभी दो बच्चे कोविड की वजह से एडमिट हैं। एक 5 साल का है और दूसरा 14 साल का है। उल्टी दस्त की वजह से एक बच्चा एडमिट हुआ था तो दूसरे बच्चे का बीपी बहुत कम हो गया था। लेकिन दवा से अब कंट्रोल में है।

​कोरोना क 628 नए मामले, संक्रमण दर 8.06 पर्सेंट दर्ज

-628-8-06-

पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना के 628 नए मामले की पुष्टि हुई है। सोमवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पिछले 24 घंटे में 7793 सैंपल की जांच की गई और इसमें से 8.06 पर्सेंट सैंपल पॉजिटिव मिले वहीं, 1011 मरीज रिकवर हुए। 3 मरीजों की जान चली गई। रिपोर्ट के अनुसार अब दिल्ली में कुल 4553 एक्टिव मरीज हैं। इससे दिल्ली में कोविड के कुल मरीजों की संख्या 19,32,026 हो गई, जबकि 19,01,217 मरीज अब तक ठीक हो चुके हैं। 26,256 मरीजों की अब तक इस वायरस की वजह से मौत हो गई। कुल संक्रमण दर 4.95 पर्सेंट है और कुल मौत की दर 1.26 पर्सेंट है।

दिल्ली की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News

Source link