Ghaziabad News: गाजियाबाद में साइबर ठगों ने 4 लोगों के खातों में लगाई सेंध, उड़ाए 3.5 लाख रुपये, प्रिंसिपल से लेकर सब-इंस्पेक्टर बने शिकार

110

Ghaziabad News: गाजियाबाद में साइबर ठगों ने 4 लोगों के खातों में लगाई सेंध, उड़ाए 3.5 लाख रुपये, प्रिंसिपल से लेकर सब-इंस्पेक्टर बने शिकार

गाजियाबाद: गाजियाबाद जिले में लोगों के खातों में सेंध लगाने के लिए साइबर ठग अलग-अलग तरीके आजमा रहे हैं। जिले में इस तरह की ठगी के 4 नए मामले सामने आए हैं, जिनमें शातिरों ने साढ़े तीन लाख रुपये की ठगी कर ली है। चारों मामले में कविनगर थाना क्षेत्र के हैं। पुलिस ने सभी मामलों में रिपोर्ट दर्ज होने के बाद साइबर सेल की मदद से जांच शुरू कर दी है।

जनधन खाते में रुपये आने का झांसा देकर ठगा
राजनगर सेक्टर-14 में रहने वाले 82 वर्षीय महेश शर्मा रिटायर्ड प्रिंसिपल हैं। उन्होंने बताया कि अनजान नंबर से रात करीब साढ़े 8 बजे कॉल आई। कॉलर ने पूछा कि क्या उनके पास जनधन खाता है। उनके हां करने पर उसने कहा कि प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत बुजुर्गों के खातों में 2 लाख रुपये ट्रांसफर किए जा रहे हैं। ये रुपये तुरंत भेजे जा रहे हैं। इसके बाद उसने रुपये ट्रांसफर करने के लिए बुजुर्ग से उनके डेबिट कार्ड की फोटो मांगी। इसके बाद मोबाइल पर आए ओटीपी पूछकर दो बार में अकाउंट से 1 लाख 37 हजार रुपये निकाल लिए।

इलाज के नाम पर सब इंस्पेक्टर को लगाई चपत
बालाजी एन्क्लेव में रहने वाले जितेंद्र कुमार सब इंस्पेक्टर हैं। वर्तमान में उनकी पोस्टिंग प्रयागराज में है। उन्होंने बताया कि बेटी की तबीयत खराब होने पर उसका आयुर्वेदिक इलाज करवाने के लिए उन्होंने यू-ट्यूब पर पतंजलि योगपीठ के बारे में जानकारी ली थी। उसमें एक नंबर दिया हुआ था। उस नंबर पर कॉल किया तो फोन रिसीव नहीं हुआ। कुछ देर बाद अनजान नंबर से कॉल आई तो उन्होंने बेटी के इलाज की बात कही।

इसके बाद उनसे 7 दिन की बुकिंग के लिए 28 हजार रुपये ले लिए गए। इसके बदले में उन्हें पतंजलि जैसे पेपर पर डिटेल भेजी गई। इसके बाद कुछ अन्य टेस्ट के नाम पर रुपये मांगे गए। इस तरह ठगों ने उनसे 64 हजार 500 रुपये ठग लिए। सब इंस्पेक्टर के अनुसार इस मामले में दिल्ली ने भी ठगों ने उनसे सोमवार को संपर्क किया था।

बेटे का दोस्त बताकर झांसे में ले उड़ाए 80 हजार
पुलिस लाइन में रहने वाले पुलिसकर्मी दयाराम से भी उनके बेटे का दोस्त बनकर 80 हजार रुपये की ठगी की गई। ठगों ने कॉल कर उन्हें उनके बेटे का दोस्त बताया और उसके पेटीएम में दिक्कत होने की बात कह कुछ लिंक भेजे। लिंक ओपन करते ही 4 बार में उनके अकाउंट से 80 हजार रुपये निकल गए। दूसरी तरफ बिना किसी कॉल या ओटीपी के कविनगर क्षेत्र में रहने वाले चंपत सिंह के अकाउंट से भी 64 हजार रुपये निकाल लिए गए हैं।

ठगों से रहें सावधान-
-सरकार की योजना के नाम पर कोई भी व्यक्ति कॉल करे तो पहले उसे वेरिफाई करें।
– बैंक से जुड़े कॉल वर्किंग आवर्स के बाद नहीं आते हैं, इस बात का भी ध्यान रखें।
– योजनाओं के बारे में सरकार की वेबसाइट पर जाकर पूरी डिटेल देख सकते हैं।
– कॉल पर रहते हुए कभी बैंकिंग सेक्टर से जुड़े काम न करें, ठग लोगों को बातों में लगाकर डिटेल लेते हैं।
– इंटरनेट से किसी का भी नंबर लेते वक्त अलर्ट रहें। इस प्रकार के नंबर आधिकारिक वेबसाइट से ही लें।
– बुकिंग के नाम पर किसी भी अनजान व्यक्ति को कोई पेमेंट न करें।

उत्तर प्रदेश की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Uttar Pradesh News