चित्रकूट से लखनऊ को 15 जुलाई से भरी जाएगी पहली उड़ान

0
चित्रकूट एयरपोर्ट Lucknow-to-be-filled-from-Chitrakoot-on-July-15-news4social

चित्रकूट से लखनऊ को 15 जुलाई से भरी जाएगी पहली उड़ान 

चित्रकूटः भगवान राम की तपोभूमि चित्रकूट से लखनऊ को पहली उड़ान 15 जुलाई से टर्बो कंपनी का 19 सीटर विमान भरेगा। जिसकी तारीख नागर विमानन मंत्रालय भारत सरकार के सचिव आरएन चौबे के तय करते हुए देवागना हवाई पट्टी का निरीक्षण किया और श्री सद्गुरु सेवा संघ ट्रस्ट जानकीकुण्ड के बैठक की। 

सचिव ने कहा कि जनपद चित्रकूट भगवान श्री राम की तपोस्थली है यहां पर देश का प्रसिद्व आरण्यक तीर्थ स्थल है यहां की जनभावनाओं एवं धार्मिक तीर्थ स्थल को दृष्टिगत रखते हुये शासन द्वारा जनपद को चित्रकूट नाम दिया गया। चित्रकूट की धार्मिक महत्ता के कारण यहां देश के विभिन्न अंचलों से असंख्य पर्यटक तथा शैलानी धार्मिक स्थलों के साथ-साथ प्राकृतिक, पुरातात्विक, ऐतिहासिक तथा पयर्टन महत्व से जुडे़ यहां अनेको स्थानो को देखने आते हैं।

चित्रकूट देश का ही नही अपितु विश्व स्तर का सुविख्यात तीर्थ स्थल है इसके दृष्टिगत राज्य सरकार द्वारा जनपद चित्रकूट के सर्वागीण विकास एवं पर्यटन को बढावा देने के लिये देवांगना शिखर पर हवाई पट्टी का निर्माण कराया जा रहा है। वर्तमान में 1423 मीटर लम्बी हवाई पट्टी का निर्माण पूर्व से किया जा चुका है। रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के अन्तर्गत 2500 मीटर लम्बी एवं 45 मीटर चैड़ी हवाई पट्टी का विस्तारीकरण का कार्य किया जाना है जिसमें से 658 मीटर पर निर्माण किया जा चुका है शेष लम्बाई का विस्तार वन विभाग द्वारा वृक्षों के कटान के उपरान्त किया जायेगा।

हवाई पट्टी के दोनेा ओर 7.5 मीटर सोल्डर का कार्य भी कराया जाना है यह कार्य राइट्स लिमिटेड गुणगांव द्वारा कराया जा रहा है इसी क्रम में हवाई पट्टी पर टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण कार्य एयर पोर्ट आथारिटी आॅफ इंडिया द्वारा किया जायेगा परन्तु गैर वानिकी प्रयोग हेतु बाधक 251 वृक्षो के अवरोध के कारण कार्य अभी प्रारम्भ नही किया गया है इस पर जिलाधिकारी विशाख जी0 ने बताया कि इसी सप्ताह एनओसी मिल जायेगी और कार्य भी प्रारम्भ करा दिया जायेगा और 07 फरवरी तक जमीन भी हैण्डओवर करा दी जायेगी। सचिव ने संबंधित अधिकारियों से कहा कि 15 जुलाई के पहले कार्य पूर्ण हो जाना चाहिये। जिससे कि प्रथम रनवे पर 15 जुलाई 2019 को 19 सीटर हवाई जहाज का शुभारम्भ कराया जा सके और द्वितीय रनवे का कार्य भी 31 मार्च 2020 तक पूर्ण होगा तत्पश्चात उस  रनवे पर भी 72 से 80 सीटर हवाई जहाज का संचालन कराया जायेगा। उन्होंने बताया कि यह 19 सीटर हवाई जहाज का संचालन टर्वो कम्पनी के द्वारा चित्रकूट से लखनऊ के लिये चलाया जायेगा। इस संचालन के बाद और जनपदों व मध्य प्रदेश से भी जोड़कर संचालन किया जायेगा। 

उन्होने बाउण्ड्रीवाल, कार पार्किंग, वाच टावर, टेलीफोन कनेक्टविटी, पाइप वाटर सप्लाई, पहुंच मार्ग, विद्युत व्यवस्था, गेस्ट हाउस, फायर सर्विस स्टेशन, पुलिस चैकी आदि की समीक्षा की और संबंधित अधिकारियों से कहा कि जिन-जिन विभागों को कार्य कराया जाना है वह शासन की मंशा के अनुरुप गुणवत्ता युक्त कार्य समयवद्व तरीके से करायें। उन्होंने इन कार्यो की समीक्षा करने के लिये अपर जिलाधिकारी जी0पी0 सिंह को नोडल अधिकारी भी नामित किया है और उन्होंने अपर जिलाधिकारी को निर्देश दिये कि यह जो कम्पनी व विभाग के लोग कार्य करा रहे हैं इन्हे कोई समस्या हो तो उनका निस्तारण तत्काल करायें ताकि तेजी से कार्य हो सके। सचिव ने जिलाधिकारी से कहा कि भारत सरकार द्वारा निर्माण कराकर प्रदेश सरकार को हैण्डओवर करती है। प्रदेश सरकार की तरफ से कार्य होना है उसे तेजी के साथ करायें ताकि यह 15 जुलाई के पहले पूर्ण हो सके।

ऐयरपोर्ट आथारिटी के अधिकारियो को निर्देश दिये कि फायर सर्विस के लिये जो पद भरे जाना है उसके लिये अभी से ही व्यवस्था करा ली जाय। अधिशाषी अभियंता विद्युत को निर्देश दिये कि विद्युत सिफ्टिंग का स्टीमेट तैयार कराकर एयरपोर्ट को उपलब्ध करा दे ताकि वह समय से धनराशि दे सके और यह कार्य 31 मार्च 2019 तक प्रत्येक दशा में पूर्ण कर लिया जाय। एप्रोच्य सड़क कि निर्माण पर लोक निर्माण विभाग को निर्देश दिये कि आपका भी कार्य 31 मार्च 2019 तक प्रत्येक दशा में पूर्ण हो जाय और सुरक्षा की दृष्टि से हवाई पट्टी के मुख्य गेट से एक किलोमीटर तक प्रकाश व्यवस्था अवश्य करा दिया जाय। समीक्षा के दौरान प्रोजेक्टर के माध्यम से प्रस्तुतीकरण भी किया गया।

बैठक में क्षेत्रीय कार्य पालक निदेशक भारतीय विमानन पत्तन प्राधिकरण एमएनएन राव, कार्य पालक निदेशक अभियांत्रिक (एनआर) राकेश कालरा, महाप्रबंधक अभियांत्रिकी भारत सरकार एचएस बल्हारा, नोडल अधिकारी क्षेत्रीय सम्पर्क सेवा उड़ान (आरसीएस) उ0प्र0 मोतीराय, श्री सद्गुरु सेवा संघ ट्रस्ट जानकीकुण्ड निदेशक डा0 बीके जैन, प्रभागीय वनाधिकारी कैलास प्रकाश, उप जिलाधिकारी कर्वी इन्दुप्रकाश, मानिकपुर प्रवीण कुमार, अधिशाषी अभियंता विद्युत हरिबरन, लोक निर्माण विभाग अरबिन्द कुमार, जल निगम यशबीर सिंह, तहसीलदार कर्वी राजूकुमार सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।