चालान का खौफ बन बैठा जान का कारण

0
death
चालान का खौफ बन बैठा जान का कारण

नोएडा में गाड़ी चेकिंग के दौरान ही सॉफ्टवेयर इंजीनियर की हार्ट अटैक से मौत हो गई. यह मामला सुनने में काफी अजीब लग रहा है कि चेकिंग के समय ही युवक हार्ट अटैक आ गया. वहीं उसकी मौत हो गई. युवक की मेडिकल रिपोर्ट सामने आ गई है. मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक युवक को कोई बीमारी नहीं थी.

यह मामला काफी बेचिदा था. कि युवक किसी भी बिमारी से पीडित नहीं था. डायबिटीज न होने पर भी नोएडा पुलिस ने दावा किया था कि युवक डायबिटिक था. पुलिस के दावों से ठीक बिपरीत युवक की मेडिकल रिपोर्ट उसे शारीरिक तौर पर स्वस्थ बता रही है.

इस संबंध में मृतक के पिता ने कहा कि ‘मेरा बेटे को डायबिटीज नहीं था. कैलाश हॉस्पिटल की रिपोर्ट भी साफ कह रही है कि ऐसा नहीं है. हालांकि कुछ ऐसे भी अधिकारी है जिनका कहना है कि हमे इस बारे में कुछ भी नहीं कहना है. हम चाहते हैं कि इस मामले में जो दोषी पुलिसकर्मी है, उसके खिलाफ जल्द से जल्द और सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए.

दरअसल, नोएडा के रहने वाले साफ्टवेयर इंजीनियर गौरव रविवार शाम अपने पिता मूलचंद शर्मा के साथ कार से गाजियाबाद के इंदिरापुरम जा रहे थे. उसी दौरान मॉडल टाउन अंडरपास के ऊपर खड़े ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने उन्हें रुकने का इशारा करते हुए गाड़ी के बोनट पर कथित तौर पर डंडा मारा था.

वहीं युवक के पिता ने आरोप लगाया है कि ट्रैफिक पुलिसकर्मियों ने चालान और गाड़ी सीज करने की धमकी देते हुए फोटो खींचना शुरू कर दिया था. उसी वक्त गौरव को चक्कर आया और वे बेहोश हो गया, और उसी वक्त उसकी मौत हो गई.

यह भी पढ़ें : दहेज़ जानलेवा बीमारी है, ऐसा हुआ है इस महिला के साथ

फिलहाल गौरव के घरवालों ने इस मामले में न्यायिक जांच की मांग की है. उनका कहना है कि मामला पुलिसकर्मियों के खिलाफ है और जांच भी पुलिसकर्मियों को दे दी गई है. ऐसे में इंसाफ की उम्मीद काफी कम है.