Faridabad Budget: एक मिनट में पास हो गया 2196 करोड़ का बजट, काम होंगे या नहीं कुछ पता नहीं

123

Faridabad Budget: एक मिनट में पास हो गया 2196 करोड़ का बजट, काम होंगे या नहीं कुछ पता नहीं

फरीदाबाद: नगर निगम सदन (Municipal Corporation) की आखिरी बैठक गुरुवार को संपन्न हुई। निगम मुख्यालय (Municipal Corporation Headquarters) के कॉन्फ्रेंस हॉल में हुई बैठक में वित्त वर्ष 2022-23 का बजट (Budget 2022-23) बिना चर्चा किए ही पार्षदों ने पास कर दिया। 2196 करोड़ के पास किए गए बजट में विकास कार्यों पर 1524 करोड़ खर्च करने का अनुमान लगाया गया है, लेकिन बैठक में शहर की समस्याओं पर विस्तृत रूप से बात न होने से लोगों में नाराजगी है।

बिना सवाल-जवाब कितना काम स्पष्ट नहीं
बिना चर्चा बजट पास होने की बात स्थानीय लोगों को पता चली तो उन्होंने सवाल उठाए कि शहर में वर्षों से टूटी सड़कें और सीवर ओवरफ्लो की समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। इसके बावजूद जनप्रतिनिधियों ने इस पर आवाज उठाए बिना ही बैठक संपन्न भी कर दी। ऐसे में आने वाले वर्षों में समस्याओं के समाधान की उम्मीद नहीं दिख रही है। इतना जरूर है कि बैठक में करोड़ों रुपये विकास कार्यों पर खर्च करने की बातें की गई हैं, लेकिन बिना सवाल-जवाब कितना काम होगा और कितनी जवाबदेही तय होगी, इस बारे में कोई स्पष्ट रूप से बोलने को तैयार नहीं है।

वहीं, वॉर्ड पार्षदों ने जाते-जाते शहर में पीने के पानी की व्यवस्था और सीवर लाइन को दुरुस्त करने के मास्टर प्लान को हरी झंडी दे दी। कहा गया कि अमृत योजना (Amrit Yojna) के तहत मिलने वाले पैसे से पूरे शहर में 15 साल की योजना तैयार की जाएगी। दूसरी ओर स्थानीय लोगों ने कहा कि सीवर लाइन और पेयजल व्यवस्था दुरुस्त करने पर पहले भी दावे किए गए हैं, लेकिन काम अब तक न होने से परेशानी हो रही है।

अभी दावे देख लीजिए, काम बाद में देखेंगे
2196 करोड़ के पास किए गए बजट में विकास कार्यों पर 1524 करोड़ खर्च करने का अनुमान लगाया गया है। दावा है कि सफाई पर 50 करोड़ रुपये खर्च होंगे। सीएम अनाउंसमेंट पर 400 करोड़ खर्च होंगे। इस बार रैन बसेरों पर एक भी रुपया खर्च करने का प्रावधान नहीं रखा गया है। अन्य ग्रांटों से 785 करोड़ खर्च होने का अनुमान है। पीने के पानी और मेंटिनेंस (Water Supply Maintenance) पर पिछले साल 120 करोड़ रुपये खर्च का अनुमान लगाया गया था, लेकिन इस बार 98 करोड़ रुपये ही खर्च होंगे।

इसी तरह से स्ट्रीट लाइट पर इस साल 37 करोड़ खर्च करने का प्रावधान रखा गया है। पार्कों पर 30 करोड़ रुपये खर्च होंगे, जो पिछले साल की तुलना में 7 करोड़ ज्यादा है। नई रोड बनाने और रिपेयरिंग करने पर 43 करोड़ रुपये खर्च होंगे। सीवर लाइनों के संचालन और उनकी मेंटिनेंस पर 89 करोड़ रुपये खर्च होंगे, जो पिछले साल की तुलना में दो करोड़ रुपये कम है।

ध्वनि मत में दबी असहमति की आवाज
बजट पर चर्चा के दौरान गिने-चुने पार्षद असहमति जताने के लिए उठे, लेकिन उनकी बात नहीं सुनी गई और एक मिनट में बजट पास कर दिया गया। कई पार्षदों का कहना था कि कायदे से बजट पर चर्चा होनी चाहिए थी कि आखिर शहर को क्या-क्या चीजें मिलेंगी और निगम अपनी इनकम कैसे बढ़ाएगा। इसके बावजूद बजट को बिना चर्चा पास कर दिया गया। वॉर्ड नंबर-3 के पार्षद जयवीर खटाना ने कहा कि जो बजट पास हो रहा है, वह जनता को गुमराह करने वाला न हो, क्योंकि लोगों को पता लगना चाहिए कि उसका बजट कैसा है और पैसा कहां-कहां खर्च किया जा रहा है।

सदन में नगर निगम का बजट साल में एक बार ही पेश किया जाता है। इस बजट से जनता को उम्मीद रहती है कि उनके इलाके में विकास कार्य होंगे, लेकिन बिना चर्चा करके ही बजट पास करने से केवल खानापूर्ति का काम किया जा रहा है।

पंजाब की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Punjab News