इस वजह से Facebook ने किए 2.2 अरब यूज़र्स के अकांउट डिलीट

0

सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने हाल ही में 2.2 अरब ऐसे अकांउट्स डिलीट किए है जो फ़र्ज़ी थे। कंपनी का कहना है कि हमने ऐसे अकांउट्स  डिलीट कर दिए हैं, जो फ़र्ज़ी थे। फ़र्ज़ी को डिलीट करने की ये फेसबुक की अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है। इससे पहले भी कंपनी की तरफ़ से अक्टूबर से दिसंबर के बीच 1.2 अरब फ़र्ज़ी अकाउंट्स डिलीट किए गए थे। इसकी वजह ये है कि ये पोस्ट कंपनी के नियम का उल्लंघन करते थे और हेट स्पीच वाले थे। पिछले छह महीने में इस तरह के पोस्ट 5.4 मिलियन थे, जो बढ़ कर 7.3 मिलियन हुए। 

दरअसल, फेसबुक ने इनफोर्समेंट रिपोर्ट जारी की है जिसमें फेसबुक ने अक्टूबर 2018 से लेकर मार्च 2019 तक लिए गए फ़ैसलों का ज़िक्र किया गया है। इस दौरान फेसबुक ने उन अकाउंट्स और पोस्ट को हटाया है, जो फर्जी थे। इन तीन महीनों में कंपनी  ने 2.2 अरब से ज्यादा फेक अकाउंट्स और पोस्ट हटाए हैं।

फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग ने कहा है, ‘हार्मफुल कॉन्टेंट के प्रसार को समझने से कंनियों और सराकरों को बेहतर सिस्टम बनाने और उससे डील करने में मदद मिलती है’’।

फेसबुक मानना है कि अब भी कुल यूजर्स यानी 2.4 अरब मासिक ऐक्टिव यूज़र्स में से 5 फ़ीसदी फेक हैं यानी ये 119 मिलियन अकाउंट्स फेक हैं। पिछली रिपोर्ट में ये आंकड़ा 3 से 4% का था, लेकिन अब इनकी संख्या बढ़ी है। रिपोर्ट  के मुताबिक़, फेसबुक ने न सिर्फ फेक अकाउंट डिलीट किए हैं, बल्कि पोस्ट भी डिलीट किए हैं।

फेसबुक ने कहा है कि कंपनी ने लगभग 7.3 मिलियन पोस्ट्स, फोटोज और दूसरे मेटेरियल को फेसबुक प्लेटफॉर्म से हटाया गया है। इसकी वजह ये है कि ये पोस्ट कंपनी के नियम का उल्लंघन करते थे और हेट स्पीच वाले थे। पिछले छह महीने में इस तरह के पोस्ट 5.4 मिलियन थे, जो बढ़ कर 7.3 मिलियन हुए। 

फेसबुक ने कहा है कि बिना किसी के रिपोर्ट किए हुए, 65 फीसदी नफ़रत फैलाने वाले स्पीच पोस्ट की पहचान कंपनी ने खुद की है। कंपनी ने ऐसा 2019 के पहले तीन महीने में किया है। पिछली बार इसी महीने में कंपनी ने 52 फीसदी हेट स्पीच वाले पोस्ट हटाए थे।