Explained: भारतीय पासपोर्ट पर ‘कमल’ का प्रतीक क्यों होगा?

0
भारतीय पासपोर्ट पर कमल का प्रतीक
भारतीय पासपोर्ट पर कमल का प्रतीक

संसद में इस समय जहाँ नागरिकता संसोधन विधेयक को लेकर विवाद हो रहा है वहीं पासपोर्ट को लेकर भी काफी विवाद मचा है। विवाद इतना बढ़ा कि इस मामलें में विदेश मंत्रालय को हस्तक्षेप करना पड़ा। आइये जानते हैं क्या है मामला-

आपको बता दें कि जो नए पासपोर्ट बन रहे हैं उस पर कमल का निशान छपा हुआ है। चूँकि भाजपा का चुनाव चिन्ह कमल है तो विपक्षी पार्टी के सदस्य इसी बात को लेकर नाराज हैं कि सरकार अपने पार्टी का प्रतीक देश के पासपोर्ट जैसे पहचान पर छपवा रही है।

लोकसभा में विपक्षी सदस्यों द्वारा नए पासपोर्ट पर कमल छापने का मुद्दा उठाए जाने के एक दिन बाद विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि यह नकली पासपोर्ट की पहचान करने के लिए बढ़ी हुई सुरक्षा सुविधाओं का हिस्सा था और इसमें अन्य राष्ट्रीय प्रतीकों के साथ-साथ रोटेशन का उपयोग करना शामिल था।

शून्यकाल के दौरान केरल के कोझीकोड में वितरण के लिए लाए गए नए पासपोर्ट पर कमल के इस मुद्दे को उठाते हुए कांग्रेस के एम के राघवन ने कहा कि इस मामले को एक समाचार पत्र ने उजागर किया है और आरोप लगाया कि यह सरकार का “भगवाकरण” की एक पहल है। चूँकि भाजपा का चुनाव चिन्ह कमल है और रंग भगवा माना जाता है इसलिए यह आरोप लगाए जा रहे हैं।

इस मुद्दे के बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, “कमल का प्रतीक हमारा राष्ट्रीय फूल है और यह नकली पासपोर्ट की पहचान करने के लिए बढ़ी सुरक्षा सुविधाओं का हिस्सा है।”

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी के बयान ‘रेप इन इंडिया’ पर लोकसभा में मचा बवाल

उन्होंने कहा कि इन सुरक्षा सुविधाओं को अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन (ICAO) के दिशानिर्देशों के तहत पेश किया गया है। “कमल के अलावा, अन्य राष्ट्रीय प्रतीकों को रोटेशन पर इस्तेमाल किया जाएगा। अभी यह कमल है और फिर अगले महीने कुछ और होगा। ये भारत से जुड़े प्रतीक हैं जैसे कि राष्ट्रीय फूल या राष्ट्रीय जानवर।”

इस मामले पर विदेश मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि यह किसी पार्टी विशेष का एजेंडा नहीं है बल्कि राष्ट्रीय प्रतीकों का देश की सुरक्षा में योगदान है।