महोबा- खरेला महोत्सव के दौरान पूर्व मंत्री बादशाह सिंह और भतीजे के बीच शुरू हुआ सियासी दांवपेंच

0

महोबा: खरेला महोत्सव शुरू हुए कुछ समय ही हुआ है इस बीच महोबा में सिंह परिवार में सियासी गर्मागर्मी का माहौल खूब तेजी से देखने को मिल रहा है. प्रदेश के पूर्व मंत्री बादशाह सिंह के भतीजे राजू सिंह ने चाचा की तर्ज पर परंपरागत खरेला महोत्सव कार्यक्रम आयोजन के तहत राजनीतिक के बिसात में शतरंज की गोटियां बिछा दी है.

भतीजे ने अध्यक्ष की सीट के लिए माँ को उतार कर प्रतिष्ठा दांव में लगाकर सीट हासिल की

आपको बता दें कि नगरीय चुनाव में मंत्री की पत्नी के समकक्ष भतीजे ने अध्यक्ष की सीट के लिए माँ को उतार कर प्रतिष्ठा दांव में लगाकर सीट हासिल की थी. इसी सफलता के बाद बढ़े हौसलें के साथ शाह और मात को लेकर पूर्व मंत्री के भतीजे ने 28 और 29 को होने वाले खरेला महोत्सव में बीजेपी सरकार के बड़े नेताओं को बुलाकर कर भविष्य की राजनीती तेज कर दी है. इसका असर आने वाले आगामी चुनाव में भी देखने को मिलेगा.

बुंदेलखंड में हर साल ही सुर्ख़ियों में रहा खरेला महोत्सव का आयोजन पूर्व राज्य मंत्री बादशाह सिंह द्वारा किया जाता था, लेकिन इस साल नगर पंचायत की बागड़ोर पूर्व मंत्री बादशाह के भतीजे राजू सिंह की माँ आशा सिंह के हाथों में है.

यह भी पढ़ें: महोबा- बीयर गोदाम मालिक के घर में चोरों ने बोला धावा, 80 हजार की नगदी समेत लाखों की चोरी

30 वर्षों से प्राचीन दंगल को खरेला महोत्सव का स्वरूप देकर राज्य और बुंदेलखंड की राजनीती की धुरी रहे पूर्व मंत्री बादशाह सिंग ने इस भव्य आयोजन में हजारों की भीड़ में देश के मशहूर पहलवानों में भारत भीम जनार्दन, कालीरमन, प्रवीण कुमार, केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, कलराज मिश्र, पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह, अनुराग चौधरी समेत कई अन्य नेताओं को समय-समय पर कार्यक्रम में लाकर कार्यक्रम के बहाने कद और पहचान बनी थी.

वहीं बता दें कि बादशाह सिंग के भतीजे ने जिला पंचायत सीट रिवई में पत्नी रमा सिंह और खरेला नगर पंचायत अध्यक्ष में माँ आशा सिंह को जीताने के बाद खरेला महोत्सव की कमान अपने हाथों में ले ली है. अब दोनों ही परिवार के सदस्यों के बीच शह और मात का खेल दोबारा शुरू हो गया है.