शिवपाल यादव ने सेक्युलर मोर्चा करने का किया ऐलान, जानिए क्या है वजह

0

नई दिल्ली: शिवपाल यादव को समाजवादी पार्टी द्वारा किनारा करने पर, शिवपाल ने सेक्युलर मोर्चा बनाने का ऐलान किया है. शिवपाल ने इस दौरान सपा (समाजवादी पार्टी) के उन तमाम लोग जो पार्टी में उपेक्षित है और जिन्हें काम करने का अवसर नहीं प्राप्त हो रहा है. उन सभी लोगों को साथ चलने की बात कही है.

सपा में मुझे न कोई सम्मान, न ही किसी पद की जिम्मेदारी दी गई- शिवपाल

शिवपाल ने कहा है कि सपा में मुझे न कोई सम्मान, न ही किसी पद की जिम्मेदारी दी जा रहीं है और न ही कोई मौका मिल रहा है. ऐसे में मेरे पास किसी प्रकार का कोई भी रास्ता नहीं बचा है. इसी के तहत हमने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने का ऐलान किया है.

यह भी पढ़ें: अखिलेश ने बीजेपी पर साधा निशाना कहा देश तभी आगे बढ़ेगा जब एक दूसरे के बीच भरोसा बढ़ेगा

उन्होंने आगे कहा है कि लोकसभा चुनाव के समय यह तय होगा कि कौन कहां चुनाव लड़ेगा. अब मुलायम सिंह यादव ही तय करेंगे और फैसला लेंगे. चुनाव में उनके खिलाफ उम्मीदवार उतारेंगे या नहीं इसका फैसला पार्टी ही करेगी.

वहीं पिछले डेढ़ साल से वे पार्टी में किसी भी पद के कार्यभार नहीं है

समाजवादी पार्टी में लंबे समय से चल रहा विवाद अब बगावत के रूप में जनता के समकक्ष आ रहा है. और अब शिवपाल द्वारा सेक्युलर मोर्चा बनाने के बाद यह साफ रूप से तय हो गया है कि अब उन्होंने सियासी रूप से सपा से अपने रास्ते अलग कर लिए है. वहीं पिछले डेढ़ साल से वे पार्टी में किसी भी पद के कार्यभार नहीं है.

यह भी पढ़ें: अखिलेश ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर साधा निशाना कहा 73 प्लस का मंसूबा भी फेल करेंगे

अखिलेश यादव और शिवपाल के रिश्ते में दरार 2017 में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में आई

बता दें कि अखिलेश यादव और शिवपाल के रिश्ते में दरार 2017 में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के समय आई थी. इसी के कारण अखिलेश ने अपने चाचा शिवपाल को मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखा दिया था. इसके बाद से ही मुलायम कुनबे की लड़ाई सड़क पर आ गई थी.

शिवपाल यादव अब भाजपा के खेमे में जा सकते है

हालांकि कई बार मुलायम सिंह यादव ने सभी को एक करने की पूरी कोशिश की, लेकिन वे सफल नहीं हो पाए. इसी के बीच राजनीतिक गलियारों से यह तेज खबर आई है कि शिवपाल यादव अब भाजपा के खेमे में जा सकते है. शिवपाल के करीबी कहे जाने वाले अमर सिंह ने भी कहा था कि उन्होंने बीजेपी पार्टी के बड़े नेता के साथ उनकी मीटिंग फिक्स करवाई थी, लेकिन वे नहीं पहुंचे.