Delhi University: डीयू में डबल डिग्री अभी नहीं, 50% पीजी दाखिले CUET से

0
90

Delhi University: डीयू में डबल डिग्री अभी नहीं, 50% पीजी दाखिले CUET से

विशेष संवाददाता, नई दिल्ली: दिल्ली यूनिवर्सिटी में डबल डिग्री के प्रस्ताव पर अभी फैसला नहीं लिया गया है। डीयू की एग्जिक्यूटिव काउंसिल (ईसी) की मीटिंग में इस प्रस्ताव का ईसी मेंबर्स ने विरोध किया, जिस पर प्रशासन की ओर से बताया गया कि डबल डिग्री पर अभी कोई फैसला नहीं लिया जा रहा है। इसके अलावा’ फ्रेंड्स ऑफ दिल्ली यूनिवर्सिटी फाउंडेशन’ कंपनी बनाने के प्रस्ताव को भी विदड्रॉ कर दिया गया है।

ईसी मेंबर्स के विरोध के बीच सीयूईटी के जरिए पीजी दाखिले का प्रस्ताव पास हो गया है। डीयू की काउंसिल (ईसी) ने इस प्रस्ताव पर फाइनल मोहर लगा दी है। ईसी मेंबर डॉ राजपाल सिंह ने बताया कि अगले साल से सभी पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेस में कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट के जरिए दाखिले होंगे। 50% सीटें यूजी मेरिट के आधार पर भरी जाएंगी और बाकी 50% सीटों के लिए सीयूईटी स्कोर के आधार पर दाखिले होंगे। हमने इसका विरोध किया क्योंकि सीयूईटी की वजह से पूरा सेशन गड़बड़ा रहा है।

Nursery Admission: नर्सरी एडमिशन के लिए 332 स्कूलों ने शेयर किया एडमिशन क्राइटेरिया
ईसी मेंबर सीमा ने बताया कि हाई कोर्ट ने कॉलेज ऑफ आर्ट मामले में डीयू के पक्ष में फैसला दिया था। मीटिंग में बताया गया कि प्रिंसिपल बार-बार संपर्क करने पर जवाब नहीं दे रहे हैं इसलिए सेक्रेटरी के जरिए उनसे चुने गए स्टूडेंट की लिस्ट मंगाई जाएगी, ताकि जल्द से जल्द एडमिशन हो और क्लासेज शुरू हो सकें। दिल्ली सरकार ने कॉलेज ऑफ आर्ट को आंबेडकर यूनिवर्सिटी दिल्ली में जोड़ कर दिया है मगर स्टूडेंट्स को डिग्री डीयू ही देगा।

डीयू में स्पोर्ट्स के असिस्टेंट/ डिप्टी डायरेक्टर और असिस्टेंट लाइब्रेरियन की नियुक्ति के लिए पहले टेस्ट होगा। कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को परमानेंट करने के लिए टेस्ट होगा, जिसे एनटीए रखेगा। ईसी मेंबर डॉ राजपाल सिंह ने बताया कि इस प्रस्ताव का विरोध किया गया क्योंकि इस टेस्ट की वजह से कई लोग बाहर हो जाएंगे, जबकि उनके पास क्वालिफिकेशन है। हमने कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को परमानेंट करने के लिए टेस्ट के प्रस्ताव का विरोध किया। डीयू ने तय किया है कि इसके लिए वो नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के जरिए एंट्रेंस रखवाएगी। यूनिवर्सिटी में ऐसे 1100 कर्मचारी हैं। मीटिंग में तय किया गया कि पीएचडी कोर्स की फीस 2500 रुपये बढ़ाई जाएगी। ईसी की मीटिंग में एडहॉक टीचर्स के विस्थापन का मुद्दा जोर-शोर से उठा। ईसी मेंबर्स ने बताया कि हंसराज, दौलत राम कॉलेज, लक्ष्मीबाई कॉलेज समेत 11 कॉलेज और अलग लग डीयू के विभागों में 30 नवंबर तक 300 में से 201 एडहॉक टीचर्स विस्थापित हो गए हैं। टीचर्स ने एडहॉक टीचर्स को परमानेंट करने की मांग करते हुए कहा कि डिस्प्लेसमेंट रेट 70% है।

दिल्ली की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News