Cyclone Remal: रेमल तूफान का बिहार में दिखा असर; 9 जिलों में बरसे बादल, आज भी बारिश के आसार

4
Cyclone Remal: रेमल तूफान का बिहार में दिखा असर; 9 जिलों में बरसे बादल, आज भी बारिश के आसार

Cyclone Remal: रेमल तूफान का बिहार में दिखा असर; 9 जिलों में बरसे बादल, आज भी बारिश के आसार

ऐप पर पढ़ें

रेमल तूफान रविवार की देर रात 135 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार के साथ बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के समुद्री तटों पर टकराया। इसका प्रभाव बिहार में भी दिखने को मिला। सोमवार को बिहार के नौ जिलों के 10 शहरों में मध्यम से हल्की स्तर की बारिश हुई। इस दौरान 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा भी चली। उत्तर बिहार, कोसी, सीमांचल व पूर्वी बिहार के ज्यादातर शहरों में बादल छाए रहे, जबकि पटना सहित अधिकतर शहरों के अधिकतम पारे में गिरावट आई।

मौसम विभाग के अनुसार रेमल का असर मंगलवार को भी उत्तर बिहार में देखा जा सकता है। हालांकि दक्षिण बिहार का ज्यादातर जिला गर्म रात की चपेट में रहेगा। पुरवा हवा चलने से वातावरण में आर्द्रता अधिक है। जिस कारण लोगों को वास्तविक पारे से 2 से 3 डिग्री अधिक का अहसास हो रहा है।

इन जिलों में हुई बारिश सुपौल के वीरपुर में 8.4 व राघोपुर में 3, नवादा के कौवाकोल में 8, पूर्वी चंपारण के सुगौली में 6.2, कटिहार के अमदाबाद में 4.2, शेखपुरा में 3.5, पश्चिमी चंपारण के वाल्मीकिनगर में 0.6, बांका में 0.5, सीतामढ़ी के पुपरी में 0.5 और भागलपुर में 0.2 मिलीमीटर बारिश हुई।

यह भी पढ़िए- Remal Cyclone: समंदर में दिखा रेमल चक्रवात का भयंकर रूप, डराने वाला वीडियो आया सामने

रेमल के कारण पटना सहित 31 शहरों के अधिकतम तापमान में गिरावट आई। वहीं चार शहरों के तापमान में वृद्धि हुई। प्रदेश का सबसे गर्म जिला 43.2 डिग्री सेल्सियस के साथ बक्सर रहा, वहीं गोपालगंज 41.7 डिग्री सेल्सियस के साथ हीट-वेव की चपेट में रहा। 10 शहरों का अधिकतम पारा 40 डिग्री से अधिक रहा। पटना के अधिकतम तापमान में 1.4 डिग्री की गिरावट आई। राजधानी का अधिकतम तापमान 38.6 डिग्री रिकॉर्ड किया गया।

ट्रेन रद्द रेलवे ने एक जोड़ी ट्रेन का परिचालन रद्द कर दिया। जोगबनी-सिलीगुड़ी टाउन (15723/15724) ट्रेन 27 और 28 मई को रद्द रहेगी। चक्रवाती तूफान रेमल ने बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल में तबाही मचाई। दोनों देशों में इसके कारण हुए हादसे में 16 लोगों की मौत हो गई। पश्चिम बंगाल में छह लोगों की मौत हो गई। वहीं, बांग्लादेश में दस लोगों की मौत हो गई। चक्रवाती तूफान ने पश्चिम बंगाल और उसके तटीय इलाकों में संपत्ति को काफी नुकसान पहुंचाया। इसके कारण रविवार की रात 135 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चली थीं। 

हालांकि कृषि वैज्ञानिक पीके द्विवेदी ने बताया कि बारिश के कारण आम की मिठास बढ़ जाती है, जिस कारण आम स्वादिष्ट हो जाता है। इतना ही नहीं बारिश के कारण आम से गर्मी निकलने लगता है। जिस कारण आम तेजी से पकता है, जो स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद होता है। वर्तमान में बारिश होने से आम को नुकसान नहीं फायदा ही होता है। लेकिन तेज हवा चलने के कारण कुछ आम गिर जाते हैं। जिस कारण किसानों को हल्का नुकसान होता है।

बिहार की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News