CWG 2022: कॉमनवेल्थ गेम्स की कांस्य पदक विजेता दिव्या काकरान का छलका दर्द कहा ‘केजरीवाल ने ना तब कुछ किया ना अब’ | Commonwealth Games 2022 bronze medalist divya kakran on delhi cm arvind kejriwal | Patrika News

0
167


CWG 2022: कॉमनवेल्थ गेम्स की कांस्य पदक विजेता दिव्या काकरान का छलका दर्द कहा ‘केजरीवाल ने ना तब कुछ किया ना अब’ | Commonwealth Games 2022 bronze medalist divya kakran on delhi cm arvind kejriwal | Patrika News

ट्विटर पर छलका दर्ददिव्या काकरान ने रविवार को एक ट्वीट कर कहा कि ‘मेडल की बधाई देने के लिए दिल्ली के माननीय मुख्यमंत्री जी का तहे दिल से धन्यवाद। मेरा आपसे निवेदन है कि मैं पिछले 20 साल से दिल्ली में रह रही हूं और यही अपने कुश्ती का अभ्यास कर रही हूं। परंतु अभी तक मुझे राज्य सरकार से किसी तरह की कोई इनाम राशि नहीं दी गई है ना ही कोई मदद की गई है। मैं आपसे इतना निवेदन करती हूं कि आप जिस तरह अन्य खिलाड़ियों को सम्मानित करते हैं जो दिल्ली के होकर किसी और स्टेट से खेलते हैं उसी तरह मुझे भी सम्मानित किया जाए।

यह भी पढ़ें

CWG 2022: जैवलिन थ्रो में अन्नू रानी ने रचा इतिहास जीता कांस्य पदक

इसके अलावा दिव्या ने आज रात एक और ट्वीट किया है जिसमें वह साल 2018 में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से एशियन गेम्स 2018 में मेडल जीतने के बाद बात करती हुई दिख रही है। इस वीडियो को टैग करते हुए उन्होंने लिखा है कि ‘समय ने खुद को दोबारा दोहराया है ऐसा लगता है, सब कुछ पहले जैसा ही है ना मेरे लिए कल कुछ किया गया था ना ही अब’

यह भी पढ़ें

निखत जरीन ने कॉमनवेल्थ गेम्स में जीता गोल्ड, फाइनल में 5-0 से दर्ज की जीत

आपको बता दें कि कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय पहलवान कुश्ती और वेटलिफ्टिंग में धमाल मचाते हुए एक के बाद एक स्वर्ण पदक अपने नाम कर रहे हैं। बीते 6 अगस्त को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया था उन्होंने लिखा कि ‘शाबाश पहलवानों हमारे पहलवानों ने कॉमनवेल्थ गेम्स में धूम मचा दी है। कुश्ती में भारत को एक ही दिन में कुल 6 मेडल मिले जिसमें तीन गोल्ड मेडल है साक्षी मलिक दीपक पूनिया और दिव्या काकरान और मोहित गिरी को पदक जीतने के लिए बहुत-बहुत बधाई।’

Copy

इसी को लेकर दिल्ली की महिला पहलवान दिव्या काकरान ने अरविंद केजरीवाल को टैग करते हुए टि्वटर पर मैसेज लिखा है कि ‘मेरे लिए ना तब कुछ किया गया था ना ही अब’ देश के लिए इतने बड़े लेवल पर पदक जीतने के बाद खिलाड़ी का इस तरह दर्द बयां करना काफी कुछ बताता है। खिलाड़ियों का यू दर्द बयां करना दर्शाता है कि हमारे देश में सरकारी मशीनरी खेलों के प्रति क्या रुख रखती है।





Source link