चीन में कोरोना वायरस का कहर

ऐसी कई बीमारियां है, जो आपने लगभग सुनी ही होगी. लेकिन क्या आपने कोरोना वायरस बीमारी का नाम सुना है. जिससे सभी लोग परेशान है और कई लोग इससे पीड़ित है. हालांकि ये वायरस अभी तक भारत में कुछ ही लोगों में पाया जाने की आशंका जताई जा रही हैं. इस वायरस का चीन के लोगों पर बहुत ज्यादा असर हुआ है. ऐसा भी कहा जा रहा है कि चीन के लोग को यह वायरस सांप, चमकादड़ के द्वारा आया है. इस वायरस से पूरे चीन में हाहाकार मचा हुआ है. केवल चीन ही नहीं देश और विदेश इसकी चपेट में आ रहे है


कोरोना वायरस से पूरे चीन में हाहाकार मचा हुआ है, वहीँ दुनिया के 25 देशों से ज्यादा में कोरोना वायरस का संक्रमण फैल गया है. जिसे देखते हुए वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन ने कोरोना वायरस को ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दिया है.
चीन में इस वायरस से अबतक में कई लोगों की मौत हो चुकी है और इससे संबंधित निमोनिया के अब तक हज़ारों मामले सामने आए हैं जिसे देखते हुए संक्रमण के चपेट में आने वाले व्यक्तियों को अस्पतालों में भर्ती किया जा चूका है.


चीन के अलावा, थाइलैंड में चार मामले, जापान में तीन, दक्षिण कोरिया में दो , अमेरिका में तीन, वियतनाम में दो, सिंगापुर में पांच , मलेशिया में तीन, नेपाल में एक, फ्रांस में तीन, ऑस्ट्रेलिया में चार और श्रीलंका में कोरोना वायरस का एक मामला सामने आया है.


तिब्बत को छोड़कर चीन के सभी प्रांतों से कोरोना वायरस के मामले सामने आए हैं. स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए इसे फैलने से रोकना एक बड़ी चुनौती बन गई है. वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस ने कहा कि हेल्थ इमरजेंसी के पीछे प्रमुख कारण चीन की मौजूदा स्थिति नहीं है बल्कि जिस तरह यह दूसरे देशों में फैल रहा है, वही इसका मुख्या कारण है. उन्होंने कहा कि चिंता की बात यह है कि यह वायरस उन देशों में भी फैल सकता है. जहां स्वास्थ्य प्रणाली कमजोर है.
भारत में भी इस वायरस ने दस्तक दे दी है, बात करें अगर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में जहाँ राम मनोहर लोहिया अस्पताल में पांच लोगों को घातक कोरोना वायरस के संपर्क में आने के संदेह के बाद भर्ती कराया गया है. इनमें 4 पुरुष और 1 महिला है.


कोरोना एक ऐसा वायरस है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है. इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है. इस संक्रमण की शुरुआत बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं. यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है. इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है.

यह भी पढ़ें : बिल गेट्स की बेटी ने मिस्र के रईस खिलाड़ी से की सगाई

WHO द्वारा कोरोना वायरस से बचने के उपाय भी बताए गए है. जिसके मुताबिक यह निर्देश दिए गए है कि हाथों को साबुन से धोना चाहिए. अल्‍कोहल आधारित हैंड रब का इस्‍तेमाल भी किया जा सकता है. खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रूमाल या टिश्‍यू पेपर से ढककर रखें. जिन व्‍यक्तियों में कोल्‍ड और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें और मांसाहार भोजन से परहेज़ करे और हो सके तो जानवरों के संपर्क में आने से बचे.