बुलंदशहर हिंसा मामला: सीएम योगी ने की समीक्षा बैठक, लेकिन शहीद इंस्पेक्टर का ज़िक्र नहीं

0

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गौकशी को लेकर हुई हिंसा मामले में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को समीक्षा बैठक की है। लेकिन यूपी सरकार द्वारा की गई इस समीक्षा को लेकर कई प्रकार के सवाल खड़े हो रहे हैं। बताया जा रहा है कि सीएम योगी की इस बैठक में सिर्फ गौकशी के मुद्दे पर फोकस रखा गया। इस हिंसा में एसआई सुबोध की मौत को लेकर कोई भी चर्चा नहीं की गई है। बता दें कि योगी आदित्यनाथ ने यूपी पुलिस के तमाम आला अधिकारिओं के साथ बैठक की है।

इस बैठक के बाद योगी सरकार की ओर से एक प्रेस रिलीज जारी की गई है जिसमें साफ तौर से दिखाई दिया कि उस दौरान शहीद सुबोध का एक बार भी जिक्र नहीं किया गया। दरअसल, इस बैठक में पुलिस की सुरक्षा को लेकर किसी भी तरह की बात नहीं की गई है।

बैठक के बाद जारी हुई प्रेस रिलीज के मुताबिक योगी सरकार ने सख्त निर्देश दिए है कि गौकशी में शामिल लोगों को बख्शा नहीं जाएगा। जितने भी लोग गौकशी के मामले में शामिल होंगे उन पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। इतना ही नहीं सीएम योगी ने गौकशी को एक बहुत बड़ी साजिश करार दिया है। इसी वजह से इसमें दोषी लोगों को तत्काल रुप से गिरफ्तार करने की बात कही है।इसके अलावा योगी सरकार ने समीक्षा बैठक में सुमित नाम के युवक का भी जिक्र किया जिसकी इस हिंसा में मौत हुई है। सरकार ने सुमित के परिजनों को 10 लाख रुपए मुआवजे के तौर पर देने की घोषणा की है। इतना ही नहीं तल्ख टिप्पणी के साथ यह भी निर्देश जारी किया है कि एक खास अभियान चलाकर माहौल खराब करने वाले अराजक तत्वों को उजागर कर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के एक गांव में खेतों में कथित रूप से गाय के अवशेष मिलने के उन्मादी भीड़ बेकाबू हो गई थी। जिसकी वजह से हिंसा हुई और इस हिंसा हो गई थी। जिसमें यूपी पुलिस के जावाज एसआई सुवोध की हत्या हो गई थी। बहरहाल, यहां पर सवाल उठना लाजमी है कि यूपी के सीएम योगी ने समीक्षा बैठक में सुवोध का एक बार भी जिक्र क्यों नहीं किया? सूबे के मुख्यमंत्री की ओर से परिवार को क्यों नहीं कहा गया कि सुवोध के कातिलों को बख्शा नहीं जाएगा? इतना ही नहीं इस बैठक में यूपी पुलिस की सुरक्षा की जवाब देही क्यों तय नहीं की गई। बहुतेरे ऐसे सवाल हैं जो लगातार निकलकर सामने आ रहे हैं। अब देखना होगा कि योगी सरकार इस बावत अगला एक्शन क्या लेती है और सुवोध के हत्यारे कब पकड़े जाते हैं।