चित्रकूट मे हाईवे किनारे लगेंगे बरगद और पीपल के पेड़

चित्रकूट: उत्तर प्रदेश में केंद्र के साथ ही प्रदेश सरकार ने पर्यावरण संरक्षण को और बढ़ने के लिहाज से एक बड़ी पहल की है. बुंदेलखंड समेत पूरे राज्य में हाईवे चौडीकरण के दौरान कटाने वाले पेड़ों की जगह 52 लाख पीपल और बरगद के पौधे लगाने का फैसला हुआ है.

चित्रकूट में वन विभाग द्वारा लगाए जाने वाले इन वनों से ना केवल लोगों को छांव प्राप्त होगी बल्कि वन विभाग को लकड़ी मिलने से राजस्व में बढ़ोतरी भी होगी. उत्तर प्रदेश में अलग-अलग रेंज के साथ वन विभाग को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है.

यह भी पढ़ें: चित्रकूट : इस गाँव की प्रधान की अनोखी पहल ,इस तरह रख रही है गाँव वालों का ध्यान

बुंदेलखंड में वन निगम के चित्रकूट रेंज की तरफ से मीरजापुर-झांसी हाईवे चौड़ीकरण करने के साथ-साथ लखनऊ-इलाहाबाद हाईवे निर्माण करने के उपरांत पीपल और बरगद के पौधों को लगा भी दिया गया है. वन विशेषज्ञों के अनुसार, इससे पहले कई इलाकों में पौधे लगाने और उनके बड़े होने से वातवरण में काफी सुधार देखने को मिला है. बता दें कि हमीरपुर, बांदा, महोबा में भी ये पौधे लगाए जाएंगे. जिसके तहत आने वाले समय में पर्यावरण में जल्द ही बदलाव देखने को मिल सकता है.

जीटी रोड, कानपुर-लखनऊ हाईवे पर भी पौधरोपण जल्द

वन विभाग के अफसरों की जानकारी के मुताबिक, कानपूर-लखनऊ हाईवे पर भी जल्द ही पौधरोपण प्रक्रिया शुरू की जाएगी. कानपुर से अलीगढ़ तक जीटी रोड के चौड़ीकरण में भी पीपल, नीम, आम और बरगद के पेड़ लगेंगे. इस फैसले को लेने की मुख्य वजह चौडीकरण के दौरान काफी पेड़ काटने से पर्यावरण असंतुलन होने का खतरा है. इसको सही करने के नजरिए से इस पौधरोपण जैसे अहम फैसले को लिया जा रहा है. करीब एक से डेढ़ दशक बाद पर्यावरण संरक्षण की दिशा में बड़े कदम के तौर पर इसके परिणाम सामने आएंगे.

यह भी पढ़ें: महोबा -श्रमदान करने पहाड़ पर पहुंची यह चेयरमैन

बुंदेलखंड के हमीरपुर, महोबा, चित्रकूट, बांदा, जालौन, झांसी में शुष्क वातावरण के कारण बबूल के जंगल खड़े हो गए है. और कई प्रकार के खरपतवार भी उग रहें है. जो वातावरण के सुधार में ज्यादा फायदे नही दे रहें है. वहीं अगर पीपल, बरगद समेत अन्य बेहतर प्रजाति के पेड़ों को लगाया जाए तो यहां का वातावरण बदलेगा. और आने वाले समय में इसके सुखद परिणाम भी नजर आएंगे.

एसएन त्रिपाठी के अनुसार जल्द मिलेंगे पौधरोपण के फायदे

प्रबंधक उप्र वन निगम, चित्रकूट रेंज, एसएन त्रिपाठी का कहना है कि हरीतिमा अभियान के अंतर्गत हाईवे चौड़ीकरण में अलग से ये पौधे लगाने पर प्रशासन की सहमति बनी हुई है. वन विभाग ने चित्रकूट रेंज में पौधरोपण का काम भी शुरू करावा दिया है.