बच्चे देश के भविष्य होते है- पंडित नेहरू

बच्चे देश के भविष्य होते है- पंडित नेहरू
बच्चे देश के भविष्य होते है- पंडित नेहरू

बच्चे मन के सच्चे होते है, यही कारण है कि देश के पहले पीएम जवाहर लाल नेहरू बच्चों से बहुत प्यार करते थे। जी हां, नेहरू को बच्चे बहुत पंसद थे, आइये आपको बताते है कि नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में क्यों मनाया जाता है?

14  नवंबर बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। जी हां, इस दिन पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म भी हुआ था, नेहरू के जन्मदिन की वजह से ही इस दिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

इसीलिए मनाया जाता है नेहरू का जन्म….

आपको बता दें कि नेहरू को बच्चों से काफी ज्यादा लगाव था, वे हमेशा बच्चों के साथ उनके बीच होते थे, बच्चों के प्रति उनके इसी प्यार और स्नेह की वजह से भारत में उनके जन्मदिन को बाल दिवस के तौर पर मनाया जाने लगा। बच्चों से प्यार की वजह से ही उन्हें चाचा के नाम से भी जाना जाता है।

बच्चों के बारे में कुछ ऐसा सोचते थे नेहरू…..

चाचा नेहरू बच्चों के प्रति बुहत प्यार रखते थे, इतना ही नहीं बच्चों को लेकर वह कहते थे आज के बच्चे ही कल के भारत की नींव रखेंगे। साथ ही नेहरू का ये भी कहना था कि जैसा हम बच्चों को बड़ा करेंगे वैसा ही देश का भविष्य भी होगा।

गौरतलब है कि चाचा नेहरू का ये कहना था कि बच्चे देश के भविष्य है, उन्हे सही रास्ते पर चलना सीखाना चाहिए।