Bollywood Legends: किशोर कुमार का बदला, प्रोड्यूसर से कहा धोती पहनकर पान चबाते हुए करो रिक्वेस्ट, तब गाऊंगा गाना

0
100


Bollywood Legends: किशोर कुमार का बदला, प्रोड्यूसर से कहा धोती पहनकर पान चबाते हुए करो रिक्वेस्ट, तब गाऊंगा गाना

Bollywood Superstars: किशोर कुमार जैसा बॉलीवुड में कोई दूसरा नहीं हुआ. सिंगिंग, एक्टिंग, राइटिंग, डायरेक्शन, प्रोडक्शन से लेकर ढेर सारी कहानी-किस्सों से भरा शख्स. किशोर कुमार का अलग ही अंदाज था. रील लाइफ में वह जितने अच्छे कॉमेडियन थे, उतने ही रियल लाइफ में भी सेंस ऑफ ह्यूमर से भरे हुए. आम जिंदगी में भी उनकी कॉमेडी के कई किस्से मशहूर हैं. जो ज्यादातर उनके मूड से जुड़े हैं. जिनकी वजह से कई बार लोगों ने उन्हें गलत भी समझा. किशोर कुमार जैसे को तैसा की तर्ज पर जीवन जीने में भरोसा रखते थे. ऐसा ही एक किस्सा है किशोर कुमार और बी आर चोपड़ा का.

काम मांगने गए किशोर कुमार
किशोर के बड़े भाई अशोक कुमार अपने दौर के दिग्गज अभिनेताओं में थे. फिर भी किशोर कुमार को अभिनेता बनने के लिए बहुत स्ट्रगल करना पड़ा. बेजारी के दिनों में वह कई बड़े निर्माताओं के ऑफिसों के चक्कर लगाते थे. एक बार वह प्रोड्यूसर-डायरेक्टर बी.आर. चोपड़ा के पास काम मांगने गए, यह सोचकर कि अशोक कुमार के बी.आर. चोपड़ा से अच्छे संबंध होने से वह उन्हें काम दे ही देंगे. चोपड़ा ने मना नहीं किया लेकिन कुछ शर्तें रख दी. किशोर को यह बात बहुत बुरी लगी. उन्होंने शर्तें मानने से इंकार कर दिया और कहा कि ठीक है, आप काम न दें. किंतु कल जब भी मेरा समय आएगा और आप कभी जरूरत पड़ने पर मेरे पास आ गए तो मेरी मर्जी के मुताबिक, अपनी शर्त पर ही आपकी फिल्म स्वीकार करूंगा.

अजीब शर्तों ने हिला दिया बी.आर. को
बात आई गई हो गई. चोपड़ा इस बात को भूल गए, लेकिन किशोर कुमार नहीं. जब अपनी एक फिल्म में गाना गवाने के लिए बी.आर. को किशोर की जरूरत पड़ी तो उन्होंने अपनी शर्तें रख दी. शर्तें इतनी अजीबोगरीब कि बी.आर. चोपड़ा सकपका गए. शर्तें यह थीं कि चोपड़ा जी को धोती पहनने के साथ पैरों में मोजे-जूते पहनने थे. फिर पान इस तरह खाना था कि मुंह से राल टपकी हुई हो और फिर टेबल पर खड़े होकर किशोर से हाथ जोड़कर फिल्म साइन करने की विनती करनी थी. चोपड़ा जी ने जिंदगी में न तो धोती पहनी थी और न धोती से साथ मोजे और बूट. बी.आर. चोपड़ा पान भी नहीं खाते थे और यहां तो पान खाकर मुहं से राल भी टपकानी थी. बी.आर. चोपड़ा ने काफी कोशिश की कि किशोर बिना शर्त के उनके लिए काम कर दें. लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

एंट्री अशोक कुमार की
किशोर कुमार की जिद देख कर बी.आर. चोपड़ा ने उनके बड़े भाई अशोक कुमार से बात की कि छोटे को समझाएं. अशोक कुमार ने उनके सामने ही किशोर से फोन पर बात की लेकिन वह टस से मस नहीं हुए. आखिरकार बी.आर चोपड़ा को किशोर कुमार की शर्तें माननी पड़ी क्योंकि जो गाना वह किशोर दा से गवाना चाहते थे, वह उनके सिवाय कोई गा ही नहीं सकता था. बी.आर. चोपड़ा ने किशोर को साइन करने के लिए जैसा-जैसा उन्होंने कहा था, वैसा-वैसा किया और तब किशोर का बदला पूरा हुआ.

ये ख़बर आपने पढ़ी देश की सर्वश्रेष्ठ हिंदी वेबसाइट http://Zeenews.com/Hindi पर

 





Source link