भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की पीएम मोदी और अमित शाह के साथ बैठक, चुनावी तैयारियों पर होगी चर्चा

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह आज अपनी पार्टियो के सभी मुख्यमंत्री व उपमुख्यमंत्रियो के साथ बैठक करेंगे. इस बैठक का उद्देश्य आगामी चुनाव की तौयारियों की समीक्षा करना होगा. बता दे यह बैठक भाजपा मुख्यालय दिन दयाल उपाध्य मार्ग पर हो रही है. बैठक में 15 मुख्यमंत्री के साथ 7 उपमुख्यमंत्री भी शामिल होंगे. बैठक में चुनाव की तैयारियों और केंद्र सरकार की योजनाओं को लेकर मंथन किया जायेगा.

मुख्यमंत्रियों की हर साल दिल्ली में होती है बैठक

हालांकि यह कोई पहली बार नहीं है जब भाजपा राज्यों शासित के मुख्यमंत्रियों की दिल्ली में बैठक हो रही है. 2014 में जब से नरेंद्र मोदी पीएम बनें है तबसे हर साला यह बैठक होती है. बीजेपी के एक नेता ने कहा है कि बैठक में सामान्य रणनीति के अलावा विभिन्न केंद्रीय योजनाओं के क्रियान्वयन और 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारियों के संबंध में चर्चा होने की संभावना है. पीएम मोदी के सत्ता में आने के बाद 2014 से मुख्यमंत्रियों की वार्षिक बैठक की यह परंपरा चल रही है. यह बैठक सुबह 10 बजे से शुरू हो गई है. शाह बैठक में उद्घाटन भाषण देंगे, जबकि प्रधानमंत्री समापन सत्र को संबोधित करेंगे.

लोकसभा में किस राज्य से कितनी सीटे मिलेंगी उसका भी किया जायेगा आकलन

इस बैठक में लोकसभा चुनाव में किस राज्य से कितनी सीटें मिल सकती है उसका भी आकलन किया जायेगा. इसके साथ 2019 पे पार्टी की किस तरह से सत्ता में वापसी में हो सकती है उस पर सभी मुख्यमंत्रियों के साथ विचार किया जायेगा. किसानों की आये दो गुना करने के लिए राज्यों सरकारों ने कितना प्रयास किया उसका भी आकलन किया जायेगा.

राहुल गाँधी को जवाब और योजनओं को लोगों तक पहुचाने पर भी होगी समीक्षा

मुख्यमंत्रियों की बैठक में राफेल डील और अल्पसंख्यो से जुड़े मुद्दे पर भी विचार-विमर्श होगा. आरएसएस पर राहुल गांधी द्वारा किए जा रहे हमले का जवाब देने की रणनीति पर भी चर्चा होगी. इस बैठक में पार्टी का शीर्ष नेतृत्व बीजेपी शासित राज्यों में चल रही योजनाओं की प्रगति की समीक्षा करेगा और मुख्यमंत्रियों को निर्देश देगा.

बैठक में सरकार की योजनाओं को कैसे लोगों तक पहुंचाया जाए, इस पर तो समीक्षा होगी ही साथ ही 2019 के आम चुनावों को देखते हुए रणनीति बनाई जाएगी. सरकार की लाभकारी योजनाओं को किस प्रकार से जनता तक पहुंचाया जाए.

जिन राज्यों में इस साल विधानसभा चुनाव होने है उन प्रदेशो के मुख्यमंत्रियों के साथ अलग से बैठक कर विचार विमर्श किया जायेगा.