मध्य प्रदेश में सरकार गिरी तो जिम्मेदारी भाजपा की नही : शिवराज सिंह चौहान

0

पिछले दिनों कर्नाटक विधानसभा में घमासान मचा हुआ था, और अंततः कांग्रेस और जेडीएस की सांझी सरकार ने दम तोड़ दिया. अब इसके बाद दो और राज्य हैं जहाँ पर कांग्रेस के अल्पमत की सरकार सत्ता में काबिज़ है, और अब कयास लगाए जा रहे हैं कि भाजपा की नजर इन्ही पर है. 

इसी कड़ी में मध्यप्रदेश का नाम आता है. मध्य प्रदेश में बीते चुनाव के पहले भाजपा की सरकार तकरीबन 15 साल से थी और अभी भी कांग्रेस के जीत का अंतर बहुत ज्यादा नही था, और ऐसी गुंजाइश है कि कांग्रेस की सरकार गिर जाय. 

इसी सब के बीच पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बयान आया है, इस बयान में उन्होंने कहा है कि अगर मध्य प्रदेश में भी कर्नाटक की तरह सरकार गिरती है तो इसकी जिम्मेदारी भाजपा की नही होगी. आपको बता दें कि कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के 15 विधायकों के बागी हो जाने के बाद सरकार गिर गयी है. 

और शिवराज सिंह के इस बयान के बाद कमलनाथ सरकार में मंत्री जीतू पटवारी ने पलटवार भी किया है. जीतू पटवारी का कहना है कि भाजपा उनकी सरकार को अस्थिर करने के लिए सब कुछ कर रही है, लेकिन ये कमलनाथ की सरकार है, कुमारस्वामी की नहीं. 

उधर कांग्रेस कमेटी की मीडिया प्रमुख शोभा ओझा ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस के विधायको को तोड़ने के लिए भाजपा ने 50 करोड़ तक का ऑफर दिया है. अब देखना होगा कि मध्य प्रदेश में राजनीति किस करवट बैठती है.