स्वरा भास्कर: BJP को पाकिस्तान से प्यार हो गया है,

0
Swara Bhaskar
Swara Bhaskar

बॉलीवुड अभिनेत्री जो अक्सर राजनीतिक मुद्दों पर मुखर रहती है उन्होंने एक बार फिर मोदी सरकार हमला बोला है। स्वरा भास्कर ने रविवार को पाकिस्तान मूल के गायक अदनान सामी को भारत का चौथा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पद्मश्री देने पर केंद्र सरकार पर निशाना साधा।

मध्य प्रदेश में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ इंदौर में “संविधान बचाओ, देश बचाओ” रैली को संबोधित करते हुए भास्कर ने कहा कि विवादास्पद कानून पारित करना भारतीय धर्मनिरपेक्ष संविधान के साथ विश्वासघात है।

भास्कर ने सवाल करते हुए पूछा, “शरणार्थियों को नागरिकता प्रदान करने और घुसपैठियों को गिरफ्तार करने की कानूनी प्रक्रिया भारत में पहले से मौजूद है। आपने (सरकार) ने अदनान सामी को भारतीय नागरिकता प्रदान की है और अब उन्हें उस प्रक्रिया के माध्यम से पद्म श्री के लिए चुना गया है। यदि इस तरह से नागरिकता दी जा सकती है तो नागरिकता संशोधन अधिनियम के लिए आवश्यकता और औचित्य क्या है?”

आपको बता दें कि गायक अदनान सामी ने 2015 में भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन किया और जनवरी 2016 में देश के नागरिक बन गए। वह पिछले महीने केंद्र द्वारा पद्म श्री पुरस्कार के लिए चुने गए 118 लोगों में से एक थे।

वहीं स्वरा भास्कर ने आगे कहा, “एक तरफ आप हमें (विरोधी सीएए प्रदर्शनकारियों) गाली देते हैं, हम पर आरोप लगाते हैं, हमें थप्पड़ मारते हैं, हमारे ऊपर आंसू गैस के गोले दागते हैं और दूसरी ओर आप पद्म श्री पुरस्कार को एक पाकिस्तानी को देते हैं।”

भास्कर ने कहा कि सरकार को “पाकिस्तान से प्यार हो गया है। उन्होंने कहा कि सरकार को हर जगह पाकिस्तान दिखता है। उन्होंने कहा, “मेरी दादी हनुमान चालीसा का उतना जाप नहीं करती हैं जितना यह सरकार पाकिस्तान मंत्र का जाप करती रहती है।”

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ या आरएसएस – सत्तारूढ़ भाजपा के वैचारिक संरक्षक का नाम लिए बिना अभिनेता ने कहा, “नागपुर में बैठे, ये लोग नफरत की राजनीति फैला रहे हैं”।

इंदौर में बांग्लादेशी घुसपैठियों की ” उपस्थिति ” के बारे में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की विवादित टिप्पणी के लिए भी स्वरा ने आलोचना की।

यह भी पढ़ें: राशिफल: यह सोमवार इन राशियों के लिए रहेगा शुभ?

उन्होंने कहा, “अगर पोहा एक बांग्लादेशी व्यंजन है, तो कैलाश विजयवर्गीय, जो पोहा (इंदौर में) खा रहे हैं, को अपनी भारतीय नागरिकता के कागजात दिखाने चाहिए।”